मुख्तार एंबुलेंस कांड में बाराबंकी एसआईटी जांच करेगी

0 1

बाराबंकी। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी द्वारा इस्तेमाल की गई एंबुलेंस के पंजीकरण में फर्जी कागजात के इस्तेमाल होने की पुष्टि के बाद मामले की जांच के लिए विशेष अनुसंधान दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। मामले की जांच के लिए पुलिस की टीमें मऊ तथा पंजाब भेजी गई हैं।

बाराबंकी जिले के एसपी यमुना प्रसाद ने बताया कि मऊ से बसपा विधायक मुख्तार अंसारी द्वारा पंजाब में इस्तेमाल की जा रही एंबुलेंस के प्रकरण में जांच के लिए एएसपी (उत्तरी) के नेतृत्व में एक एसआईटी टीम का गठन किया गया है।
उन्होंने आगे कहा कि, एसआईटी के तहत दो टीम गठित की गई है। एक टीम को हैदरगढ़ के सीओ नवीन कुमार के नेतृत्व में पंजाब और दूसरी टीम निरीक्षक महेंद्र सिंह के नेतृत्व में मऊ रवाना की गई है। यह सभी बिंदुओं पर जांच करेंगी। इस मामले में आरोपों के घेरे में आई डॉक्टर अलका राय से भी बात करेंगी। जेल से मिलने वालों को ब्योरा लिया जाएगा।
उन्होंने कहा, एसआईटी एंबुलेंस और उसके चालक की भी तलाश करेगी। एम्बुलेंस किसके आदेश से जेल से मुख्तार अंसारी को ले गई और अंसारी का बाराबंकी से क्या रिश्ता है, उसका भी पता लगाया जाएगा। इस पूरे प्रकरण में गंभीरता के साथ जांच चल रही है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

दरअसल, पंजाब के रोपड़ जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी को मोहाली की अदालत में पेश करने के लिए जिस एंबुलेंस का प्रयोग किया गया था वह बाराबंकी जनपद में पंजीकृत है।
यह एंबुलेंस रफी नगर निवासी डॉक्टर अलका राय के नाम पंजीकृत मिली थी। शासन की सख्ती के बाद संभागीय परिवहन विभाग ने अलका के पंजीकरण की फाइल खंगाली तो पाया गया कि डॉक्टर अलका राय ने बाराबंकी के रफी नगर निवासी होने का वोटर आईडी लगाकर पंजीकरण कराया था।
इसपर परिवहन कार्यालय ने तहसील प्रशासन से जांच कराई तो वोटर आईडी फर्जी होने की जानकारी मिली इस पर एआरटीओ पंकज सिंह ने शुक्रवार को शहर कोतवाली में मऊ जिले के भीटी इलाके की मूल निवासी अलका राय के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.