राकेश टिकैत का सरकार को अल्टीमेटम, 2 अक्टूबर तक जारी रहेगा आंदोलन

0 2

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत ने शनिवार को ऐलान किया कि वे 2 अक्टूबर तक गाजीपुर बॉर्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करते रहेंगे। दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा (गाजीपुर बॉर्डर) पर राकेश टिकैत के नेतृत्व में किसान आंदोलन कर रहे हैं। इससे पहले भी राकेश टिकैत कई बार कह चुके हैं कि किसान की घर वापसी तब होगी, जब तीनों कानून को केंद्र सरकार रद्द करेगी।

देशभर में शनिवार को तीन घंटे के लिए चक्का जाम

किसान संगठनों ने प्रदर्शन स्थलों के आसपास के क्षेत्रों में इंटरनेट बंद करने, अधिकारियों द्वारा किसानों का कथित उत्पीड़न किए जाने के खिलाफ और अन्य मुद्दों को लेकर देशभर में शनिवार को तीन घंटे के लिए चक्का जाम किया। चक्का जाम दोपहर 12 बजे से तीन बजे तक तीन घंटे के लिए रहा। इस दौरान दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बंद नहीं करने का फैसला लिया गया था। शनिवार को चक्का जाम के बाद दिल्ली-यूपी गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों को संबोधित करते हुए टिकैत ने कहा कि हम सरकार के साथ किसी दबाव में बातचीत नहीं करेंगे, जब प्लैटफॉर्म बराबरी का होगा, तब बातचीत होगी।

टिकैत ने चक्का जाम के बाद किसानों से कहा कि हमने कानून वापस लेने के लिए सरकार को 2 अक्टूबर तक का टाइम दिया। इसके बाद हम आगे की योजना बनाएंगे। या तो सरकार हमारी बात सुन ले, नहीं तो अगला आंदोलन ये होगा कि जिसका बच्चा फौज -पुलिस में होगा, उसका परिवार यहां रहेगा और उसका पिता उसकी तस्वीर लेकर यहां पर बैठेगा। कब तस्वीर लेकर आनी है, ये भी मैं बता दूंगा। सरकार के साथ हम किसी भी दबाव में बात नहीं करेंगे।

शर्त के साथ बातचीत नहीं होगी

टिकैत ने कहा कि या तो सरकार बिल वापस ले ले, एमएमसपी पर कानून बना दे, नहीं तो ये आंदोलन जारी रहेगा और हम देश में यात्रा करेंगे। पूरे देश में आंदोलन होगा। हमारा गैर राजनीतिक आंदोलन पूरे देश में होगा। फिर में यह मत कहिएगा कि कैसा आंदोलन है। सरकार पर निशाना साधता हुए टिकैत ने कहा कि तिरंगे को हम मानते हैं, हमारे बच्चों की शहादत होती तिरंगे में होती है, गांव में इसमें लिपटे आते हैं। तिरंगे का अपमान सहन नहीं होगा।

इनको देश से लगाव नहीं है, व्यापारी से लगाव है। इनको किसान से लगाव नहीं है, उसके अनाज से लगाव है। इनको मिट्टी से लगाव नहीं हो, इनको अन्न से लगाव है। ये कील बोएंगे, हम अनाज बोएंगे। राकेश टिकैत ने कहा कि हम बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन शर्त के साथ बातचीत नहीं होगी। जब प्लैटफॉर्म बराबर होगा, तो बात होगी। कोई ट्रैक्टर यहां लेकर आ रहा है तो नोटिस भेजे जा रहे हैं। ये कहां का कानून है कि ट्रैक्टर नहीं चलेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.