सीएम योगी आदित्यिनाथ ने महानिशा पूजा कर दी सात्विक बलि

वेदी पर उगाए गए जौ को वैदिक मंत्रोच्चार के बीच काटा

0 2

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि गुरुवार को गोरखनाथ मंदिर स्थित भवन में मां भगवती के आठवें स्वरूप महागौरी के पूजन किया। गोरखनाथ मंदिर के शक्तिपीठ में पूरे विधि-विधान से परंपरागत महानिशा पूजन किया। उन्होंने पूजन के बाद सात्विक बलि और हवन का अनुष्ठान भी पूर्ण किया। मुख्यमंत्री कालीबाड़ी के सुदृढ़ीकरण और सुंदरीकरण परियोजना का लोकार्पण करने के बाद शाम छह बजे से अनुष्ठान में शामिल हुए मुख्यमंत्री ने महागौरी की पूजा के क्रम में गौरी-गणेश, वरुण, यंत्र, शस्त्र, भगवान राम-लक्ष्मण-सीता, अर्धनारीश्वर, द्वादश ज्योतिर्लिंग और नवग्रह की पूजा की।
इसी क्रम में मुख्यमंत्री ने नारियल, गन्ना, केला, जायफल आदि की सात्विक बलि दी। वेदी पर उगाए गए जौ को वैदिक मंत्रोच्चार के बीच काटा। उसके बाद वेदी पर ब्रह्मा, विष्णु, रुद्र और अग्नि देवता का आह्वान कर हवन किया। अनुष्ठान मंदिर के प्रधान पुरोहित आचार्य रामानुज त्रिपाठी की अगुआई में डॉ. अरविंद चतुर्वेदी, डॉ. रोहित मिश्र, पुरुषोत्तम चौबे, डॉ. दिग्विजय शुक्ल आदि आचार्यों द्वारा कराए गए। इससे पहले बुधवार की सुबह भी शक्तिपीठ में मुख्यमंत्री ने परंपरागत रूप से मां महागौरी की आराधना की। इसके बाद उनके आवास में कन्या पूजन का कार्यक्रम हुआ। मुख्यमंत्री ने मां के नौ स्वरूप के प्रतीक रूप में नौ कन्याओं और एक बटुक भैरव का पांव-पखार कर उन्हें चुनरी ओढ़ाया और अपने हाथ से भोजन कराया। मुख्यमंत्री की ओर से नौ कन्याओं और एक बटुक भैरव को इस पूजन के लिए बुधवार को ही आमंत्रण भेज दिया गया था। आरती और क्षमा याचना के बाद प्रसाद वितरण के साथ बुधवार का नवरात्र अनुष्ठान सम्पन्न हुआ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.