10 साल से कम आयु वाले बच्चों के अभिभावकों का जल्द होगा वैक्सीनेशन

पहली बार मुलायम के क्षेत्र सैफई में स्वास्थ्य समीक्षा करने पहुंचे सीएम योगी

0 7

इटावा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को इटावा जिले के सैफई स्थित यूपी आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, डीएम श्रुति सिंह, एसएसपी बृजेश कुमार सिंह भी उनके साथ हैं। सीएम ने मेडिकल यूनिवर्सिटी के कार्यवाहक रमाकांत यादव और मेडिकल स्टाफ से मरीजों के इलाजों को लेकर सवाल किए। वेंटिलेटर और आईसीयू रूम का भी निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने मरीजों का हाल भी जाना।

इससे पहले अंतर्राष्ट्रीय एथलेटिक्स स्टेडियम में उनका हेलीकॉप्टर उतरा। यहां उनसे कृषि मंत्री व इटावा प्रभारी मंत्री सूर्यप्रताप शाही, सांसद रामशंकर कठेरिया, सदर विधायक सरिता भदौरिया मिलने पहुंचे।

यूपी में अखिलेश सरकार के बाद के बाद यह पहला ऐसा मौका है, जब योगी आदित्यनाथ सैफई गए हैं। बता दें कि सैफई सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का गांव है।

प्रदेश की इस मेडिकल यूनिवर्सिटी में 200 बेड का एल-3 कोविड हॉस्पिटल बना हुआ है। यहां दूर-दराज से कोरोना संक्रमित मरीज इलाज कराने आ रहे हैं। कोरोना काल में यह मेडिकल यूनिवर्सिटी लोगों को काफी राहत दे रही है।

इटावा में पॉजिटिविटी रेट 30 फीसदी के आस-पास
सीएम योगी ने कहा कि इटावा में प्रशासन, हेल्थ वर्कर्स, कोरोना वॉरियर्स, स्वयंसेवी संगठन व अन्य ने मिलकर जो कार्य किया है, उसके बेहतर परिणाम सामने आए हैं। इटावा में एक समय पॉजिटिविटी रेट 30 फीसदी के आस-पास पहुंच गया था, आज वह घटकर 02 फीसदी से नीचे आ गया है।

10 साल से कम आयु वाले बच्चों के अभिभावकों का जल्द होगा वैक्सीनेशन
सीएम योगी ने कहा कि कोविड की संभावित तीसरी लहर से पहले 10 साल से कम उम्र बच्चों के माता-पिता को टीका लगवा देंगे, इससे बच्चों पर खतरा कम होगा। उन्होंने कहा कि इस माह के अंत तक दूसरी लहर खत्म होने की उम्मीद है और तीसरी लहर को रोकने के लिए प्रदेश में तैयारी तेज हैं। जिलों में दौरे करके चिकित्सा व्यवस्थाएं दुरुस्त कराई जा रही हैं। केंद्र सरकार के सहयोग से पूरे प्रदेश में 300 ऑक्सीजन प्लांट लग रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यूपी में कोरोना संक्रमण के केस तेजी से कम हो रहे हैं। हमने सबसे ज्यादा टेस्ट किए हैं और प्रदेश की जनता को फ्री में वैक्सीन लगवाया जा रहा है। कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए केंद्र-राज्य मिलकर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोविड की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए इंतजाम तेजी से किए जा रहे हैं। हर जिले में 100-100 पीडियाट्रिक बेड के वार्ड की व्यवस्था की जा रही है ताकि बच्चों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मिल सकें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.