FIR कराने गई पीड़ित को थानेदार ने डांटकर भगाया, जानें पूरा मामला

0 9

कानपुर: यूपी में मिशन शक्ति की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कहा था- प्रदेश की बहन बेटियों की सुरक्षा और सम्मान का ध्यान रखा जाएगा. इन पर बुरी नजर डालने वालों पर कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी. लेकिन, आपकी सुरक्षा, हमारा संकल्प के सिद्धांत पर चलने का दावा करने वाली यूपी पुलिस का छेड़छाड़ पीड़िताओं के साथ इस कदर अमानवीय व्यवहार करती है कि वह दुखी होकर अपनी जान तक दे देती हैं. इसकी बानगी इटावा जिले में देखने मिली.

जिले में दिल्ली-हावड़ा रेलमार्ग पर बलरई रेलवे स्टेशन पर छेड़खानी से परेशान एक लड़की ने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी. दरअसल, लड़की को गांव का ही एक युवक परेशान करता था. आए दिन की छेड़छाड़ से तंग आकर लड़की अपने परिवार के साथ शिकायत करने बलरई थाने पहुंची. वहां थाना प्रभारी बृजेंद्र सिंह ने उसकी पीड़ा सुनने की जगह उसे गाली देकर थाने से भगा दिया. लड़की के भाई का आरोप है कि थानेदार ने 21 जनवरी को जबरन दोनो पक्षों में समझौता करा दिया, जिसके बाद परेशान होकर लड़की रात भर घर में रोती रही और शुक्रवार सुबह ट्रेन से कटकर दे दी.

थाने पहुंची औरैया की एसएसपी अपर्णा गौतम ने बताया

घटना की जानकारी होने पर थाने पहुंची औरैया की एसएसपी अपर्णा गौतम ने बताया तहरीर के आधार पर कार्रवाई की जाएगी. थानेदार पर जो आरोप लगे है उसकी जांच एसपी सिटी से कराई जाएगी. इटावा के एसपी के अवकाश पर होने की वजह से पड़ोसी जनपद औरैया की एसएसपी अपर्णा गौतम मामले की जांच के लिए पहुंची थीं. इस मामले में पीड़ित परिवार का कहना है कि अगर समय रहते कार्रवाई हो जाती तो उनकी बेटी को अपनी जान से हाथ नहीं धोना पड़ता.

Leave A Reply

Your email address will not be published.