दिल्ली में लॉकडाउन से पहले शराब के ठेकों के आगे लगी लाइ

0 8

दिल्ली में लॉकडाउन से पहले शराब के ठेकों के आगे लगी लाइन

-दिल्ली में 19 अप्रैल रात 10 बजे से 26 अप्रैल सुबह 5 बजे तक लॉकडाउन
-सरकार ने जरूरतमंद लोगों और जरूरी सेवाओं को लॉकडाउन से छूट दी

ब्यूरो (विद्रोही आनन्द)
नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) की अरविंद केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में छह दिनों के लिए लॉकडाउन का ऐलान किया है। सोमवार रात 10 बजे से अगले सोमवार 26 अप्रैल को सुबह 5 बजे तक दिल्ली में लॉकडाउन लगा रहेगा। हालांकि, लॉकडाउन में कई तरह की गतिविधियों को छूट मिलेगी। दिल्ली सरकार ने इसके लिए गाइडलाइंस जारी कर दी है।
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले 24 घंटे में लगभग 23,500 मामले आए हैं। संक्रमण दर बहुत ज्यादा बढ़ गई है। दिल्ली के अस्पतालों में बेड की भारी कमी हो रही है। आईसीयू बेड लगभग खत्म हो रहे हैं। 100 से भी कम आईसीयू बेड बचे हैं। दवाइयों की कमी हो रही है। दिल्ली में सोमवार रात 10 बजे से अगले सोमवार को सुबह 5 बजे तक 6 दिन के लिए लॉकडाउन लगाया जा रहा है। इस दौरान आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। लोगों की शादियां केवल 50 लोगों के साथ सम्पन्न होंगी, उसके लिए अलग से पास दिए जाएंगे। मुझे उम्मीद है कि यह छोटा लॉकडाउन है और छोटा ही रहेगा और शायद इसे बढ़ाने की जरूरत नहीं पडे़गी। प्रवासी मजदूरों से अपील है कि दिल्ली छोड़कर मत जाइएगा। आने जाने में इतना समय खराब हो जाएगा। सरकार आपका पूरा ख्याल रखेगी। इन 6 दिनों के लॉकडाउन में हम दिल्ली में बड़े स्तर पर बेड की व्यवस्था करेंगे। केंद्र सरकार हमारी मदद कर रही है। हम इसके लिए शुक्रगुजार हैं।
केजरीवाल ने कहा कि हमारी स्वास्थ्य व्यवस्था बहुत ज्यादा तनाव में है। किसी भी व्यवस्था की अपनी सीमाएं हैं। हम केंद्र सरकार के लगातार संपर्क में हैं। इस लॉकडाउन में हम दवाइयां और ऑक्सीजन की व्यवस्था करेंगे। सभी से गुजारिश है कि लॉकडाउन का पूरी तरह पालन करें। इस दौरान घर से बाहर न निकलें।
दिल्ली में संक्रमण दर बहुत बढ़ गई है। 25-25 हजार केस रोज आ रहे हैं। बेड और ऑक्सीजन की भारी कमी हो रही है। परसों रात 3 बजे के करीब एक हॉस्पिटल में ऑक्सीजन अचानक खत्म हो गई थी। जैसे-तैसे इंतजाम किया गया। नहीं तो बहुत बड़ा हादसा हो जाता है। अभी तक हमने दिल्ली के अंदर हेल्थ सिस्टम को अच्छे से मैनेज किया है। दिल्ली में कोरोना की यह चौथी लहर है। अब 25 हजार केस आए हैं। आज हमारा हेल्थ सिस्टम बहुत तनाव में है। किसी भी सिस्टम की अपनी सीमाएं हैं। अब इसके बाद अगर कोई कठोर कदम नहीं उठाए गए तो हेल्थ सिस्टम खत्म हो जाएगा। केजरीवाल ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि बेवजह लॉकडाउन के दौरान कही भी बाहर न जाएं। बता दें कि दिल्ली में रविवार को 25,462 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। 20,159 लोग रिकवर हुए और 161 की मौत हो गई। अब तक यहां 8.79 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 7.66 लाख ठीक हो चुके हैं, जबकि 12,121 मरीजों की जान चली गई। 74,941 मरीज ऐसे हैं, जिनका इलाज चल रहा है।

कैसी रहेगी मेट्रो सेवा ?
दिल्ली में सोमवार रात 10 बजे से 26 अप्रैल सुबह 5 बजे तक लगाए गए कर्फ्यू के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो की सेवाएं सुबह 8 बजे से सुबह 10 बजे तक और शाम 5 बजे से शाम 7 बजे तक जारी रहेंगी। ये सेवाएं 30 मिनट के अंतराल पर रहेंगी।

लॉकडाउन के दौरान इन पाबंदियों का ऐलान
बेवजह दिल्ली में बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी। सिर्फ जरूरी क्षेत्र से जुड़े लोग बाहर आ पाएंगे। सभी प्राइवेट ऑफिस को वर्क फ्रॉम होम ही करना होगा। सरकारी दफ्तर में आधे ही अफसर आ सकेंगे।
वैक्सीन लगवाने जाने वाले लोगों को लॉकडाउन में छूट मिलेगी। रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, बस स्टेशन जाने वाले लोगों को भी छूट मिलती रहेगी। उन्हें अपना वैलिड टिकट अपने साथ रखना होगा। मेट्रो, बस सर्विस चालू रहेंगी, लेकिन 50% यात्रियों को इजाजत मिलेगी।
बैंक, एटीएम और पेट्रोल पंप खुले रहेंगे। धार्मिक स्थलों को खुला रखा जाएगा, लेकिन किसी विजिटर के जाने की इजाजत नहीं होगी।
जरूरी क्षेत्र से जुड़े लोगों को आईडी कार्ड दिखाने पर ही बाहर सफर करने दिया जाएगा। एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने वाले सार्वजनिक परिवहन जारी रहेंगे।
किसी भी सार्वजनिक, राजनीतिक, धार्मिक कार्यक्रम के आयोजन पर पाबंदी रहेगी। किसी स्टेडियम में कोई मैच या आयोजन बिना दर्शकों के किया जाएगा।
सभी थियेटर्स, ऑडिटोरियम, स्पा, जिम, स्विमिंग पूल को बंद रहेंगे। पहले से तय शादियों को छूट मिलेगी। उसके लिए भी ई-पास लेना होगा।

शराब की दुकान में लगी भीड़
वहीं दिल्ली में 6 दिन के लॉकडाउन की घोषणा के बाद लोग केंद्रीय भंडार पर  राशन और जरूरी सामान खरीदने के लिए लाइन में खड़े दिखे। एक व्यक्ति ने कहा कि 6 दिन तक सामान की कमी न हो इसलिए हम सामान लेने आए हैं।
इसके अलावा दिल्ली में आगामी 26 अप्रैल तक लॉकडाउन के ऐलान के बाद शहर की शराब की दुकानों पर भारी भीड़ देखी गई। दक्षिण दिल्ली के लाजपत नगर, ग्रेटर कैलाश, नेहरू प्लेस के साथ पूर्वी दिल्ली के लक्ष्मी नगर, शकरपुर आदि इलाकों में शराब की दुकानों पर भारी भीड़ दिखी। यह भीड़ पूरी दिल्ली में थी, वहीं, शराब के दुकानदार भी लाइन में लगे लोगों से शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करवाने में असमर्थ रहे।
दरअसल, बुधवार (21 अप्रैल) को रामनवमी के चलते दिल्ली में ड्राई डे है और फिर लॉकडाउन के कारण शराब की दुकानें बंद रहेंगीं। ऐसे में सोमवार दोपहर में जैसे ही सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉकडाउन का ऐलान किया तो दिल्ली में शराब की दुकानों के बाहर जगह-जगह लंबी कतारें दिखीं।
दिल्ली के लाजपत नगर, लक्ष्मी नगर, जहांगीरपुरी समेत तमाम इलाकों में शराब की दुकानों बेतहाशा भीड़ जुटी रही। इस दौरान लाइन में लगने वाले शारीरिक दूरी के नियमों का उल्लंघन करते नजर आए।

महिला बोली-  इंजेक्शन नहीं, अल्कोहल से फायदा होगा
दिल्ली में  लॉकडाउन की जैसे ही खबर आई तो शराब के शौकीनों का तो जैसे चैन ही छिन गया। फौरन नजदीकी ठेके की तरफ दौड़ पड़े। दिल्ली की शिवपुरी गीता कॉलोनी में एक महिला भी शराब के ठेके पर नजर आईं। उन्होंने बड़ी मजेदार बातें की। महिला ने कहा कि कोरोना से बचने के लिए इंजेक्शन फायदा नहीं करेगा, अल्कोहल से फायदा होगा। उन्होंने बताया कि वे 35 साल से शराब पी रही हैं और उन्हें दवाओं की नहीं, पेग की जरूरत है। महिला ने कहा कि दिल्ली में लॉकडाउन के दौरान शराब की दुकानें खुली रहनी चाहिए।

शराब खरीदने के लिए लीगल उम्र 21 साल
बता दें कि पिछले दिनों दिल्ली सरकार ने एक्साइज पॉलिसी में बड़ा बदलाव किया है। अब दिल्ली में शराब की नई दुकानें खोली जाएंगी। शराब खरीदने के लिए लीगल उम्र भी 21 साल होगी, हालांकि अभी तक यह नियम लागू नहीं हुआ है। मनीष सिसोदिया ने ये भी बताया था कि अब शराब की नई दुकानें नहीं खोली जाएंगी। इसका मतलब हुआ कि दिल्ली में जितनी शराब की दुकानें हैं, उतनी ही रहेंगी। गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली में अभी कुल 850 शराब की दुकानें हैं। इनमें से 60 फीसद सरकारी और 40 फीसद प्राइवेट हैं। दिल्ली के डिप्टी सीएम ने एलान किया है कि दिल्ली में कोई भी नई शराब की दुकान नहीं खुलेगी। इसके साथ ही सरकारी शराब की दुकानों को भी बंद कर दिया जाएगा। मौजूदा सरकारी शराब की दुकानों की नीलामी की जाएगी और इन्हें निजी हाथों में दिया जाएगा।

अनिल विज का केजरीवाल पर तंज
हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि केजरीवाल रोज मीडिया पर इतना खर्च करके आकर बोल रहे हैं। अगर किसी चीज की कमी है तो आप व्यवस्था करें। आप विज्ञापन पर इतना पैसा खर्च कर रहे हैं तो दवाइयों पर करें। देश में नहीं मिलती हैं तो बाहर से मंगवा लें। आज आप कमी की बात कर रहे हैं। कमी के लिए अगर सही में कोई जिम्मेदार है तो आजादी के 70 साल तक जिन पार्टियों की सरकारें रहीं वे सरकारें दोषी हैं, जिन्होंने स्वास्थ्य का बुनियादी ढांचा तैयार नहीं किया। आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। हमारे जो कुल मरीज आ रहे हैं उनमें 50 फीसदी तीन जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद और सोनीपत के हैं, जो दिल्ली से सटे हैं। दिल्ली में व्यवस्था नहीं हो पा रही होगी, वे हमारे पास आए हैं तो धक्का नहीं मार सकते न। हम इलाज देने की कोशिश कर रहे हैं।

पंजाब में बढ़ा नाईट कर्फ्यू
कोविड 19 स्थिति की समीक्षा करते हुए पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नाइट कर्फ्यू (रात 8 बजे से सुबह 5 बजे) का विस्तार किया है। 20 अप्रैल से 30 अप्रैल तक सभी बार, सिनेमा हॉल, जिम, स्पा, कोचिंग सेंटर, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स बंद रहेंगे। शादियों और अंतिम संस्कार के लिए 20 से अधिक लोगों पर प्रतिबंध रहेगा। मोहाली में बुधवार को रामनवमी के अवसर पर पूरी तरह लॉकडाउन रहेगा। यह क्षेत्र में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच लोगों के इकट्ठा होने से रोकने के लिए किया गया है।

राजस्थान में  3 मई तक कोरोना कर्फ्यू
वहीं, राजस्थान में बढ़ते कोरोना मामलों को देखते हुए राज्य की अशोक गहलोत सरकार ने राज्य में सोमवार से 3 मई तक 15 दिनों के लिए कोरोना कर्फ्यू लागू कर दिया। इस दौरान राजधानी जयपुर समेत राज्य के तमाम शहरों की सड़कों पर सन्नाटा छा गया। लोग बिना वजह सड़कों पर न निकलें इसको देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। ये कर्फ्यू 3 मई की सुबह तक लागू रहेगा। इन 15 दिनों को अशोक गहलोत सरकार ने जन अनुशासन पखवाड़े का नाम दिया है। इन अवधि में सभी कार्यस्थल, बाजार और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। इस दौरान वैक्सीन लगवाने जा रहे लोगों को घर से बाहर निकलने की छूट दी जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.