लखनऊ में 280 करोड़ की 2 फ्लाईओवर परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्‍यास

0 1

लखनऊ। लखनऊ संसदीय क्षेत्र से बीजेपी सांसद और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को लखनऊवासियों को बड़ी सौगात देते हुए लखनऊ में 280 करोड़ रुपए की लगत से दो फ्लाईओवर परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने राजधानी में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में लखनऊ जनपद में नेशनल हाईवे 24 ए के 2.50 किमी. (टेढ़ी पुलिया) पर जंक्शन सुधार सहित चार लेन फ्लाईओवर का लोकार्पण व 5.05 किमी. (खुर्रम नगर) पर जंक्शन सुधार सहित चार लेन फ्लाईओवर का शिलान्यास किया।

विकासनगर मिनी स्टेडियम में आयोजित इस समारोह में उन्होंने इसी राजमार्ग पर खुर्रम नगर से इंदिरा नगर सेक्टर 25 चौराहे को जोड़ने के लिए प्रस्तावित फ्लाईओवर का शिलान्यास भी किया। दोनों परियोजनाओं की लागत लगभग 280 करोड़ रुपए है।

इस मौके पर गडकरी ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश में तीन लाख करोड़ से साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए की परियोजनाओं को अमली जामा पहना कर सूबे की तस्वीर बदलना चाहते हैं। लखनऊ से कानपुर के बीच प्रस्तावित एक्सप्रेस हाईवे का निर्माण अगले 3 से 4 महीने में शुरू हो जाएगा। 2022 समाप्त होने से पहले वाहन चालक लखनऊ से कानपुर आधे घंटे में आ जा सकेंगे। नितिन गडकरी ने कहा क‍ि मुख्‍यमंत्री योगी आद‍ित्‍यनाथ के कुशल नेतृत्‍व में प्रदेश में व‍िकास कार्य बहुत तेजी से हो रहा है। इसके ल‍िए मैं उन्‍हें बधाई देता हूं। उन्‍होंने आगे कहा कि हमने इस महीने में राजमार्ग बनाने में तीन व‍िश्‍व र‍िकॉर्ड बनाए हैं। गुरुवार को ही हमने 37 क‍िमी प्रत‍िद‍िन राष्‍ट्रीय राजमार्ग बनाने का कार्य पूरा क‍िया है। विश्व में सबसे तेज रोड निर्माण करने में अब हिंदुस्तान प्रथम स्थान पर आ गया है।

राजनीति की नहीं सिर्फ विकास की चर्चा : राजनाथ

राजनाथ सिंह ने कहा कि मेरे संसदीय क्षेत्र लखनऊ में ट्रैफिक जाम से मुक्ति के लिए पिछले कुछ वर्षों में कई फ्लाइओवरों का निर्माण कार्य किया गया है। इसी क्रम में, एक और फ्लाईओवर का लोकार्पण किया गया और एक नए फ्लाईओवर की आधारशिला भी रखी गई। इन फ्लाइओवरों के बन जाने से जनता के लिए आवागमन सुगम होगा। खुशी की बात है कि नितिन गडकरी द्वारा खुर्रम नगर चौराहे से लेकर इंदिरा नगर चौराहे तक 180 करोड़ के फ्लाईओवर निर्माण की स्वीकृति प्रदान कर दी है जिसका शिलान्यास हो रहा है इसके बन जाने से जाम कम हो जाएगा। नितिन गडकरी द्वारा मड़ियांव चौराहे से आईआईएम तक लगने वाले भीषण जाम से मुक्ति के लिए लगभग 1970 मीटर लंबे फ्लाईओवर निर्माण की स्वीकृति प्रदान की गई है और मेरा गडकरी जी से अनुरोध है कि इंजीनियरिंग कॉलेज चौराहे पर यदि 70 मीटर लंबा फ्लाईओवर निर्माण कर दिया जाए तो जाम नहीं होगा। राजनाथ सिंह ने कहा कि इन फ्लाईओवर के बन जाने से जनता के लिए आवागमन सुगम होगा। ट्रैफिक जाम से मुक्ति मिलेगी।

राजनाथ सिंह ने सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि सड़कों के निर्माण में नितिन गडकरी ने क्रांतिकारी भूमिका निभाई है। राजनाथ सिंह ने कहा कि अपनी प्रगति रिपोर्ट लखनऊ की जनता के सामने रखने आया हूं। राजनीति की नहीं सिर्फ विकास की चर्चा करूंगा। कहा कि शहरी आधारभूत संरक्षा लखनऊ में मजबूत हो रही है।

राजनाथ सिंह ने राजधानी के यातायात को सुगम बनाने के लिए कुछ और फ्लाईओवर और पुल के निर्माण की अनुमति देने का गडकरी से अनुरोध किया। उन्होंने बताया कि राजधानी में डीआरडीओ का एक केंद्र स्थापित करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए 36 एकड़ जमीन की जरूरत होगी। अयोध्या के 84 कोसी परिक्रमा मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग जैसा बनाने का भी गडकरी से अनुरोध किया। गडकरी ने उनके इस अनुरोध को सहर्ष स्वीकार किया।
बता दें कि राजनाथ सिंह ने कुछ माह पूर्व इस फ्लाईओवर का निरीक्षण करते हुए जल्द से जल्द काम पूरा करने का निर्देश दिया था। सांसद प्रतिनिधि दिवाकर त्रिपाठी ने बताया कि कोरोना काल में काम बाधित होने के बावजूद नियत समय पर यह काम पूरा कर लिया गया।

कई मुख्य प्रोजेक्ट जल्द पूरे होंगे : गडकर

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में तेजी से विकास कर रहा है। राज्य में रिकॉर्ड स्पीड से कार्य चल रहा है। राज्य के कई मुख्य प्रोजेक्ट जल्द ही पूरे हो जाएंगे।
गडकरी ने कहा कि रिंग रोड के निर्माण के लिए भूमि अर्जन का पूरा खर्च केंद्र सरकार वहन करेगी बशर्ते कि राज्य सरकार सड़क निर्माण में इस्तेमाल होने वाले स्टील और सीमेंट पर अपना जीएसटी माफ कर दे और जो एग्रीगेट हम इस्तेमाल करेंगे उस पर रॉयल्टी माफ कर दे। उन्होंने कहा कि इससे उत्तर प्रदेश में 25 से 30 रिंग रोड परियोजना के निर्माण को वह एक झटके में मंजूरी दे देंगे।

उन्होंने उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से कहा कि उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्गों पर जितने भी सेतु, रेल उपरगामि सेतु की जरूरत है, सब मेरे पास ले आइए। मैं एक साथ मंजूर कर दूंगा। शर्त यह होगी कि इन पुलों के निर्माण के लिए भूमि अर्जन का खर्च उत्तर प्रदेश सरकार को वहन करना होगा। गडकरी ने इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की ओर से की गई सभी मांगों को स्वीकार करने का ऐलान करते हुए गडकरी ने यह भी बताया कि उत्तर प्रदेश में उनके मंत्रालय की ओर से कराए जा रहे 65,000 करोड़ों रुपए के सड़क निर्माण कार्य पूरे होने जा रहे हैं। उन्होंने प्रदेश में 7250 करोड़ रुपए की 680 किलोमीटर लंबी 21 नई  परियोजनाओं की भी घोषणा की। 50,000 करोड़ रुपए के उन कार्यों का उल्लेख भी किया जो इसी साल शुरू होंगे।

गडकरी ने बताया कि अब वाहनों के लिए ऐसे फ्लेक्स इंजन बनने जा रहे हैं जिनमें ईंधन के तौर पर शत प्रतिशत एथेनॉल का इस्तेमाल भी किया जा सकेगा। उत्तर प्रदेश के लिए यह एक बहुत बड़ा अवसर है। राज्य सरकार अगर प्रयास करे तो उत्तर प्रदेश के पास इथेनॉल आधारित दो लाख करोड़ रुपए की अर्थव्यवस्था होगी। गडकरी ने राज्य सरकार से यह भी कहा कि विकास कार्यों के लिए धनराशि की कोई कमी नहीं है, आप प्रस्ताव लाइए, उसे अमलीजामा हम पहनाएंगे

यातायात की समस्या का समाधान होगा : योगी

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि टेढ़ीपुलिया फ्लाईओवर के लोकार्पण से लखनऊ में यातायात की समस्या का समाधान होगा। इसके बनने से आमजन को प्रतिदिन की समस्याओं से मुक्ति मिल जाएगी। राजनाथ सिंह के आग्रह पर नितिन गडकरी ने जिन परियोजनाओं की घोषणा की है, खासतौर पर लखनऊ-कानपुर के बीच ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे के बारे में, यह देश के उभरते दो बड़े महानगरों को गति देगा। प्रदेश में रोड कनेक्टिविटी में बेहतर कार्य हुए हैं। इंटरस्टेट कनेक्टिविटी को फोर लेन से जोड़ने, हर जनपद मुख्यालय को फोर लेन और तहसील एवं ब्लॉक मुख्यालय को 02 लेन से जोड़ने की प्रक्रिया अंतिम चरण में चल रही है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मुझे बताते हुए प्रसन्नता है कि प्रदेश सरकार ने गोमती नदी के दोनों तटों का उपयोग करते हुए एक नए ग्रीनफील्ड कॉरिडोर के निर्माण को अपने हाथों में लिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में बुनियादी ढांचे का विकास तेजी से किया जा रहा है राज्य सरकार पहुंचने एक्सप्रेसवे बना रही है जो प्रदेश की अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाइयों देंगे। प्रदेश सरकार ने गोमती नदी के दोनों तटों पर ग्रीन फील्ड कॉरिडोर का काम अपने हाथ में लिया है। आश्वस्त किया कि केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश में विकास के जो भी कार्य करेगी, राज्य सरकार उसमें पूरा सहयोग देगी।

कार्यक्रम ये रहे उपस्थित

इस कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा, मेयर संयुक्ता भाटिया, कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन, बृजेश पाठक, सिद्धार्थ नाथ सिंह, महेंद्रनाथ सिंह, मोहसिन रजा समेत पार्टी के कई एमएलए, एमएलसी, सांसद, पधाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे।

परियोजनाओं की विशेषता

-शहरवासियों को ट्रैफिक जाम से निजात
-यात्रा समय व ईंधन की बचत एवं प्रदूषण में कमी
-सुगम और सुरक्षित यातायात सुरक्षित
-आवागमन व वस्तुओं की ढुलाई सुगम
-अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी

Leave A Reply

Your email address will not be published.