अस्पताल में प्रसूता की मौत, अस्पताल प्रशासन पर मौत को छिपाने का आरोप

परिजनों का आरोप है कि उपचार के दौरान ही महिला की मौत

0 5

आजमगढ़। जिला अस्पताल में सोमवार दोपहर प्रसव के लिए शल्य चिकित्सा कक्ष में भर्ती कराई गई प्रसूता की नवजात को जन्म देने के बाद हालत बिगड़ी और उसकी मौत हो गई। इस बात को अस्पताल प्रशासन छिपाता रहा। मौत की जानकारी के बाद मृतका के साथ आए परिजनों ने अस्पताल परिसर में हंगामा खड़ा कर दिया। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की छानबीन शुरू कर दी गई है।

जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के आलियाबाद कटाई ग्राम निवासी 30 वर्षीय उर्मिला पत्नी तेज बहादुर चौहान को सोमवार की दोपहर परिजनों ने प्रसव के लिए जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया। दोपहर करीब दो बजे अस्पताल में तैनात महिला चिकित्सक रश्मि सिन्हा द्वारा शल्य चिकित्सा के बाद नवजात शिशु का जन्म कराया गया। ऑपरेशन थिएटर में ही महिला की हालत बिगड़ने लगी। सांस लेने में दिक्कत महसूस होने पर स्वास्थ्य कर्मियों ने महिला को ऑक्सीजन सिलेंडर लगाया। परिजनों का आरोप है कि उपचार के दौरान ही महिला की मौत हो गई लेकिन अस्पताल प्रशासन उसकी मौत को छिपाते हुए हालत गंभीर बताकर हायर सेंटर ले जाने के लिए दबाव बनाने लगा। चिकित्सकों द्वारा हाथ खड़े कर देने पर परिजन उसे ऑपरेशन थिएटर से जब बाहर ले आए तो उसकी सांसें थम चुकी थी। मौत की जानकारी के बाद परिजनों ने अस्पताल परिसर में हंगामा करना शुरू कर दिया। सूचना पाकर शहर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई। इस मामले में पुलिस घटना की छानबीन कर रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.