देश आगे निकल गया, मेरा दार्जिलिंग वहीं रह गया : अमित शाह

0 8

देश आगे निकल गया, मेरा दार्जिलिंग वहीं रह गया : अमित शाह

ब्यूरो (विद्रोही आनन्द)
दार्जिलिंग। 
पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि आजादी के बाद से कांग्रेस, कम्युनिस्ट और दीदी(ममता बनर्जी) ने दार्जिलिंग के विकास पर पूर्ण विराम लगा दिया है। देश बहुत आगे निकल गया, मेरा दार्जिलिंग वहीं का वहीं रह गया। हम चाय बागान के श्रमिकों का वेतन बढ़ाकर 350 रुपए तक करेंगे। दार्जिलिंग में पीने के पानी की समस्या है, उसे दूर करने लिए हम 600 करोड़ रुपए निवेश करेंगे। उत्तर बंगाल के अंदर केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना करेंगे।
अमित शाह ने कहा कि दीदी कहती हैं मैं बाहरी हूं। पीएम को बाहरी कहती हैं। दीदी, कम्युनिस्टों की विचारधारा बाहरी है। वे चीन और रूस से लाए हैं। कांग्रेस नेतृत्व बाहरी है। ईटली से आई है। टीएमसी का वोट बैंक बाहरी है, घुसपैठिए हैं। मैं इसी देश में जन्मा,मैं कैसे बाहरी हो सकता हूं?
वहीं, पश्चिम बंगाल के नागरकाटा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि  बंगाल के गरीब का चावल घुसपैठिए ले लेते हैं। 2 मई को सरकार बनने के बाद इंसान तो छोड़े परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा। सारे शरणार्थियों को नागरिकता देने का काम बीजेपी करेगी। घुसपैठ की समस्या का समाधान केवल बीजेपी कर सकती है।
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि कहा कि गोरखाओं की समस्या का राजनीतिक समाधान सभी की चिंता है। गोरखा समस्या का स्थायी राजनीतिक समाधान बीजेपी की केंद्र सरकार और बंगाल सरकार मिलकर निकालेगी।  भारतीय संविधान में सभी का प्रावधान है। समाधान का रास्ता निकाला जाएगा. आपको आंदोलन नहीं करना पड़ेगा। हम गोरखा की 12 जातियों को अनुसूचित जाति का दर्जा देंगे और उनका अधिकार देंगे।
दार्जिलिंग में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि फिलहाल एनआरसी लागू नहीं होगा। यदि भविष्य में लागू भी होगा कि गोरखा पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, क्योंकि गोरखा घुसपैठिए नहीं हैं। यह जमीन जितनी मेरी है।उतनी ही उनकी भी है। दीदी लोगों के बीच अपवाह फैला रही हैं। लेकिन इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.