नासा ने मंगल पर रचा इतिहास, इनजेन्युटी हेलीकॉप्टर ने भरी पहली उड़ान

0 5
नासा ने मंगल पर रचा इतिहास, इनजेन्युटी हेलीकॉप्टर ने भरी पहली उड़ान

वॉशिंगटन।
 अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के पर्सीवरेंस रोवर के साथ मंगल पर पहुंचा  इनजेन्युटी हेलीकॉप्टर ने उड़ान भरकर इतिहास रच दिया है। करीब 6 साल की कड़ी मेहनत के बाद बनाए गए इस हेलीकॉप्टर की लाल ग्रह पर होने वाली पहली उड़ान को लेकर पूरी दुनिया में उत्‍सुकता का माहौल था। नासा के कई चैनलों के जरिए इस ऐतिहासिक घटना का लाइव प्रसारण किया गया।नासा करेगा लाइव स्ट्रीमिंग
इनजेन्युटी  हेलीकॉप्टर ने मंगल ग्रह के जेजीरो क्रेटर में बने एक अस्थायी हेलीपैड से उड़ान भरी। यह धरती के अलावा पहली बार किसी दूसरे ग्रह पर हेलीकॉप्टर की उड़ान है। इस मिशन को नासा के कैलिफोर्निया स्थित जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी लाइव स्ट्रीमिंग कर रही है।
नासा के इनजेनयुटी स्वायत्त रूप से अपनी पूरी उड़ान का संचालन किया। लगभग 1.8 किग्रा का यह रोटरक्राफ्ट अपने चार कार्बन-फाइबर ब्लेड के सहारे उड़ान भरी। जिसके ब्लेड 2400 राउंड प्रति मिनट की दर से घूम सकते हैं। यह स्पीड धरती पर मौजूद हेलिकॉप्टरों के ब्लेड की रोटेटिंग स्पीड से लगभग 8 गुना ज्यादा है। ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि मंगल का वातावरण धरती की तुलना में 100 गुना अधिक पतला है।

जमीन से 10 फीट ऊंचा उड़ेगा यह हेलिकॉप्टर
इनजेन्युटी अपने रोटर के सहारे पहली बार उड़ान के दौरान लगभग 10 फीट की ऊंचाई प्राप्त करेगा। इसके बाद यह धीरे-धीरे नीचे भी उतरेगा। अगर सबकुछ ठीक रहा तो  इनजेन्युटी   30 दिनों के अंदर चार बार उड़ान भरने का प्रयास करेगा। हर उड़ान पिछले से ज्यादा ऊंचाई और दूरी तक की जाएगी। जिससे यह हेलिकॉप्टर उच्चतम स्तर को पा सके।
नासा टीवी पर भी इसका लाइव प्रसारण देखा जा सकता है। इस बीच हेलीकॉप्टर से उड़ान भरने से ठीक पहले नासा के वैज्ञानिकों को एक बड़ी चिंता खाए जा रही है। हेलीकॉप्टर की प्रोजेक्ट मैनेजर मिमि आंग ने कहा कि हमारी टीम सोमवार को मंगल ग्रह पर उड़ान भरने का प्रयास करेगी लेकिन हम यह भी जानते हैं कि हमें फिर से मेहनत करते हुए दोबारा प्रयास करना पड़ सकता है। आंग ने कहा कि इंजीनियरिंग की दुनिया में हमेशा अनिश्चितता बनी रहती है लेकिन यह अत्याधुनिक तकनीक पर काम करने को रोमांचक और प्रतिफल देने वाला बनाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.