लखनऊ में पकड़े गए अलकायदा समर्थित आतंकियों की जांच एनआईए करेगी

0 1

लखनऊ। लखनऊ में पकड़े गए अलकायदा समर्थित आतंकियों की जांच अब एनआईए करेगी। उत्तर प्रदेश के प्रमुख धार्मिक शहरों के साथ राजधानी लखनऊ को दहलाने की योजना को मूर्त रूप देने के लिए लखनऊ में अलकायदा के आतंकी मॉडल अंसार गजवत-उल-हिंद के सक्रिय सदस्य प्रेशर कुकर बम के साथ टाइम बम तैयार कर रहे थे। इसका इनपुट मिलते ही लखनऊ के काकोरी क्षेत्र के दुबग्गा में ताबड़तोड़ छापा मारकर उत्तर प्रदेश एटीएस ने आतंकी मिनहाज और मशीरुद्दीन को गिरफ्तार किया। इनको रिमांड पर लेने के बाद इनके कुछ साथियों पर भी शिकंजा कसा गया। अब इस मामले की तह तक जाने के लिए जांच को एनआईए को सौंपा गया। गृह मंत्रालय ने केस ट्रांसफर को अपनी मंजूरी दे दी है।

उत्तर प्रदेश में स्वतंत्रता दिवस पर सीरियल ब्लास्ट की तैयारी में लगे आतंकी संगठन पर पर शिकंजा कस गया है। यह आतंकी संगठन उत्तर प्रदेश में बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में थे। लखनऊ से आतंकी मिनहाज और मशीरुद्दीन की गिरफ्तारी के बाद कई बड़े खुलासे होने के बाद जांच एजेंसियां अलर्ट पर हैं। अब तक हुई जांच में सामने आया है कि दोनों ही आतंकी मिनहाज और मसीरुद्दीन अलकायदा के मानव बम मॉड्यूल थे। इन आतंकियों को पाकिस्तान व अफगानिस्तान में बैठे हैंडलर के जरिए निर्देश मिल रहे थे। आतंक के अलकायदा मॉड्यूल की जांच अब एनआईए करेगी। गृह मंत्रालय ने जांच ट्रांसफर का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। यूपी एटीएस इस मामले की जांच कर रही थी, लेकिन अब इस मामले की तह तक जाने के लिए जांच एनआईए को सौंपी गई है।

उत्तर प्रदेश एटीएस ने अलकायदा की आतंकी प्लानिंग को लेकर दो आतंकियों की गिरफ्तार के बाद कई और संदिग्ध लोगों को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। उन्हेंं हथियार मुहैया कराने के मामले में कानपुर में भी आतंकी कनेक्शन की जांच की जा रही है। इसके साथ ही दोनों आतंकियों से पूछताछ के बाद पता चला कि भाजपा के दो सांसद इन आतंकियों के निशाने पर थे।

अलकायदा के आतंकियों के निशाने पर उत्तर प्रदेश के तीन बड़े मंदिर के साथ ही दूसरे धार्मिक स्थल और कुछ नामचीन लोग भी थे। संदिग्ध आतंकियों से कई नक्शे बरामद किए थे। आतंकियों के पास से अयोध्या के श्री राम मंदिर और उसके आसपास के इलाकों के नक्शे भी मिले थे। इनके पास काशी और मथुरा मंदिर के भी नक्शे मिले। गोरखपुर का भी एक नक्शा मिला था। अलकायदा की साजिश सिर्फ सीरियल ब्लास्ट की ही नहीं थी बल्कि धमाकों के बाद देश को सांप्रदायिकता की आग में झोंकने की भी थी।

लखनऊ में बीती 11 जुलाई को काकोरी के दुबग्गा से उत्तर प्रदेश एटीएस ने अलकायदा समर्थित अंसार गजवा तुल से जुड़े मिनहाज और मसीरुद्दीन को यूपी गिरफ्तार किया था। इनके पास से प्रेशर कुकर बम तथा अर्धनिर्मित टाइम बम भी मिला था। प्रेशर कुकर बम को आतंकी मिनहाज बनाता था और प्रेशर कुकर मसीरुद्दीन लेकर आता था। मसीरुद्दीन ई-रिक्शा चलाता था और बम बन जाने के बाद इसी ई-रिक्शा में बम रख देता था।

आतंकियों ने जिस प्रेशर कुकर बम को तैयार किया था, वो बेहद ही खतरनाक था। मिनहाज ने प्रेशर कुकर की बाहरी सतह पर डबल सेलो टेप से हजारों कीले और छर्रे चिपका दिए थे। धमाके के लिए अमोनियम नाइट्रेट और माचिस में चिपके मसाले को मिक्स कर गन पाउडर तैयार किया था। इस गन पाउडर को कुकर में रखा गया था और टाइमर लगाकर उसके टाइमर का सर्किट प्रेशर कुकर की सीटी के वॉल्व में फिट कर दिया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.