सोशल मीडिया पर क्यों ट्रोल हो रहें हैं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ?

0 5

नई दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सुभाष चंद्र बोस की जन्मतिथि पर 23 जनवरी 2021 को एक प्रतिमा का अनावरण किया था. लेकिन दो दिनों बाद ही वह पोर्ट्रेट विवादों में आ गया. दरअसल पोर्ट्रेट को लेकर कुछ लोगों ने दावा किया कि यह पोर्ट्रेट नेताजी का नहीं, बल्कि एक फिल्‍म में उनका किरदार निभाने वाले अभिनेता प्रोसेनजीत चटर्जी (Prosenjit Chatterjee) का है. अब इसके बाद से ही राष्ट्रपति मीमर्स के निशाने पर आ गए हैं.

TMC सांसद महुआ मोइत्रा ने भी किया दावा

यह दावा करने वालों में तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा भी शामिल थीं. पश्चिम बंगाल कांग्रेस के आधिकारिक हैंडल से भी ऐसा ही ट्वीट किया गया. लेकिन कई लोग कह रहें हैं कि पोर्ट्रेट नेताजी का ही है. दोनों ओर से अपने-अपने तर्क पेश किए जा रहें हैं. कुछ देर बाद मोइत्रा ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया. कुछ और लोगों ने भी अपने ट्वीट डिलीट कर दिए हैं.

टीएमसी नेता महुआ मोइत्रा ऐसा आरोप लगाने वाली पहली बड़ी नेता थीं. उनके बाद कई वेरिफाइड हैंडल वाले पत्रकारों ने भी इसे लेकर ट्वीट किए. देखते ही देखते ऐसे ट्वीट्स की बाढ़ आ गई जो राष्‍ट्रपति भवन में लगे चित्र को प्रोसेनजीत का पोर्ट्रेट बताने लगे, और देखते ही देखते President of India ट्रेंड करने लगा. इसके अलावा मशहूर पेंटर परेश मैती का नाम भी बीच बीच में लिया गया. पद्मश्री से सम्‍मानित मैती वह कलाकार हैं जिन्‍होंने यह पोर्ट्रेट बनाया है जिन्हें राष्‍ट्रपति भवन में लगाया गया है.

बंगाली फिल्म इंडस्ट्री के मशहूर व दिग्गज एक्टर प्रोसेनजीत चटर्जी, बंगाली सिनेमा के बड़े स्टार तो हैं ही साथ ही बॉलीवुड में भी कुछ फिल्मों में अहम किरदारों के लिए जाने जाते हैं. टेलीविजन से लेकर फिल्मों में उनका बड़ा नाम है, अब जब सुभाष चंद्र बोस के किरदार में उन्होंने जान डाली तो दर्शक इस तरह कंफ्यूज हो गए कि असली व किरदार में फर्क तक नहीं कर पा रहे हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.