सीमा पार से पाकिस्‍तान भेज रहा है हथियार और ड्रग्‍स: अमरिंदर सिंह

0 3

चंडीगढ़। देश के किसान आंदोलन चल रहा है, ऐसे में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पाकिस्तान की योजना के बारे में आगाह करते हुए कहा केंद्र सरकार से इस मामले में जांच की मांग की है। उन्‍होंने कहा है कि देश में गड़बड़ी पैदा करने के लिए भारत में अवैध ड्रग्स और हथियारों की सप्‍लाई की जा रही है। पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिक से अधिक अवैध ड्रग्स हथियारों को सीमा पार से भारत में धकेला जा रहा है और उन्हें इसके पीछे कोई गहरी साजिश है।

लंबे समय से केंद्र सरकार को चेतावनी दे रहे

अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह लंबे समय से केंद्र सरकार को चेतावनी दे रहे हैं कि पाकिस्तान घुसपैठ करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने आगे अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि पाकिस्तान में स्लीपर सेल हैं, जिन्हें वे सक्रिय कर सकते हैं और पंजाब के माहौल को खराब किया जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि हमारे पश्चिमी सीमा पर शत्रुतापूर्ण देश है। उत्तर की ओर चीन है। ये दोनों देश आपस में मिले हुए हैं। लगभग 20 प्रतिशत भारतीय सेना इस क्षेत्र में है और हम उनके मनोबल को कम नहीं होने दे सकते हैं।

पंजाब सीएम ने कहा कि मुझे लगता है कि हमें अपने विकल्प में सावधान रहना चाहिए, जिससे ऐसी स्थिति पैदा न हो, जहां हमारे सैनिकों का मनोबल नीचे चला जाए।

सीमा पार तस्करी में तेजी

अमरिंदर सिंह ने कहा कि पाकिस्तान ड्रोन के जरिए हथियार भेज रहा है और घुसपैठ की कोशिश भी कर रहा है। उन्होंने कहा कि ड्रोन डिलीवरी में तेजी आई है, क्योंकि किसानों का आंदोलन शुरू हुआ है और हथियार, पैसा आ रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नवंबर में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद पाकिस्तान की अशांति फैलाने के प्रयासों के बारे में अपनी चिंताओं को व्यक्त किया।

उन्‍होंने कहा कि मैं गृहमंत्री से मिलने गया गया था, जब सभी ने इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए किसानों के संघर्ष के बारे में बड़ी खबरें बनाना शुरू कर दिया था। चूंकि किसानों का संघर्ष अक्टूबर में शुरू हुआ था, पंजाब (पाकिस्तान से) में आने वाले हथियारों की संख्या में वृद्धि हुई है। यह ड्रोन के जरिए लाए जा रहे हैं। वे किसी चीज के लिए होते हैं। हमने 30 ड्रोनों को पकड़ा है, लेकिन 20-30 ऐसे हैं जो हमसे छूट सकते हैं, जिससे उनका उद्देश्य पूरा हो सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.