लखीमपुर खीरी जा रहे सिद्धू के काफिले को सहारनपुर में रोका गया

दोषी की गिरफ्तारी न हुई तो करुंगा भूख हड़ताल

0 3

चंडीगढ़। लखीमपुर खीरी कांड में मरने वाले किसानों के परिजनों से मिलने जा रहे कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा समेत कई कांग्रेसी नेताओं को उत्तर प्रदेश पुलिस ने यूपी की सीमा पर रोक दिया गया। कांग्रेस नेताओं के काफिला को सहारनपुर में रोका गया। यूपी पुलिस ने काफिले को आगे बढ़ने की अनुमति नहीं दी। काफिले में शामिल नेताओं की पुलिस अधिकारियों से काफी बहस भी हुई।

इससे पहले काफिला मोहाली से लखीमपुर खीरी रवाना हुआ था। काफिले के रवाना होने से पहले सिद्धू ने कहा कि यदि कल तक लखीमपुर की घटना के लिए दोषी की गिरफ्तारी नहीं हुई तो भूख हड़ताल करुंगा। जितने भी विधायक कांग्रेस वर्कर जहां पर पहुंचे है वे पार्टी से ऊपर उठ कर किसानों के साथ खड़े है। सिद्धू ने उत्‍तर प्रदेश व केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि वे कांग्रेस नेत्री प्रियंका गांधी और सांसद सदस्य राहुल गांधी के साथ इस इंसाफ की लड़ाई को लड़ेगे। इसके लिए अगर मुझे मेरी देह भी दाव पर लगानी पड़ी तो लगा दूंगा। 700 से ज्यादा किसानों की मौत हो चुकी है लेकिन यह गूंगी बहरी सरकार चुपचाप बैठी है। ऐसी सरकार के जगाने के लिए विरोध दर्ज करवाना जरूरी।

सिद्धू ने कहा कि भगवंत सिंह सिद्धू का ये बेटा कसम खाता है कि किसानों को इंसाफ दिलवाने के लिए किसी भी हद तक जाना पड़े जाऊंगा। सवाल के जवाब में सिद्धू ने कहा कि जहां पर भी उन्हें भूख हड़ताल पर बैठना पड़ा बैठ जाएंगे। सिद्धू के समर्थन में कई कांग्रेसी विधायक अपने समर्थकों के साथ पहुंचे। मोहाली से विधायक बलबीर सिंह सिद्धू, विधायक सुंदर शाम अरोड़ा, विधायक साधू सिंह धर्मसोत, कुलजीत नागरा सहित कई नेता लखीमपुर खीरी जाने के लिए पहुंचे।

बता दें कि पंजाब के मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी अभी उत्तर प्रदेश में थे। वह वहां राहुल गांधी के साथ गए थे। चन्नी ने लखीमपुर में मारे गए लोगों के परिवारों के लिए 50 लाख रुपए की सहायता देने की घोषणा की थी। इससे पहले पंजाब के गृहमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा को पांच नेताओं के साथ पिछले सोमवार को लखीमपुर खीरी जाने के क्रम में उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में गिरफ्तार कर लिया गया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.