पूर्वांचल एक्सप्रेस वे की रफ्तार बढ़ेगी, जुलाई से फर्राटा भरने लगेंगी गाड़ियां

0 2

आजमगढ़। औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी तथा अपर मुख्य सचिव,अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास अरविन्द कुमार ने जनपद आजमगढ़ से होकर जाने वाले पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के पैकेज-6 (किशुनदासपुर) का स्थलीय निरीक्षण किया। निरीक्षण के बाद किशुनदासपुर स्थित कैंप कार्यालय में पूर्वांचल एक्सप्रेस वे की समीक्षा बैठक की गई। मंत्री ने अधिकारियों एवं कार्यदायी संस्था के प्रतिनिधि को निर्देश दिए कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के अवशेष कार्यों में तेजी लाकर अति शीघ्र पूरा करना सुनिश्चित करें। बता दें कि शुक्रवार को डीएम राजेश कुमार ने किशुनदासपुर, सेहदा मे पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का निरीक्षण किया था।

मंत्री सतीश महाना ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण के कारण जो कार्य प्रभावित हुए थे, उन्हें तत्काल पूर्ण करें। उन्होने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे  के निर्माण कार्यों को उच्च गुणवत्ता एवं निर्धारित समय सीमा के अन्दर पूर्ण किया जाना सुनिश्चित करें। महाना ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो भी अधूरे फ्लाईओवर एवं अंडरपास हैं, उसके निर्माण कार्य में तेजी लाकर जुलाई के अंत तक पूर्ण किया जाना सुनिश्चित करें।

औद्योगिक विकास मंत्री ने कार्यदायी संस्था एवं अधिकारियों को निर्देश दिये कि एप्रोच रोड एवं अन्य मिट्टी के कार्यों को जुलाई माह तक हर हाल में पूर्ण करना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि टोल प्लाजा के निर्माण कार्य को तत्काल पूर्ण किया जाए। महाना ने कहा कि पूर्वांचल एक्सपे्रस-वे के निर्माण मे शिथिलता/लापरवाही बर्दास्त नही की जायेगी। उन्होने कहा कि पूर्वांचल एक्सपे्रस-वे का प्रोजेक्ट यूपी सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट है। मुख्यमंत्री का निर्देश है कि इस हर हाल में निर्धारित समय में पूर्ण किया जाना सुनिश्चित करें।

औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने इस अवसर पर प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को अपने निर्धारित समय से पहले पूर्ण करने का संकल्प लिया गया है। उन्होने कहा कि जून 2021 के अन्त तक पूरा कैरेज वें पूर्ण हो जाएगा। लखनऊ से आजमगढ़ तक पूरी की पूरी सड़क पूर्ण हो जायेगी। उन्होने कहा कि कोविड की वजह से जो कठिनाई हुई तथा जो काम अधूरे रह गये हैं, उसे भी जुलाई के अन्त तक पूर्ण कर लिया जायेगा। उन्होने कहा कि ये पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पूरे पूर्वांचल के लिए लाइफ लाइन साबित होगा। यहां की प्रगति एवं आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। यहां के कार्य अधिकतर क्षेत्रों में पूर्ण गुणवत्ता के साथ किया जा रहा है।

सतीश महाना ने कहा कि जहां भी इंटरचेंज हैं, जहां पर लोग चढ़ते और उतरते हैं, वहां के आस-पास की जमीनों को चिन्हित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए गए हैं, ताकि औद्योगिक गतिविधियों को स्थापित किया जा सके। उन्होंने कहा कि दिल्ली तक के उद्योगपतियों को यहां इंडस्ट्री लगाने में आसानी होगी, वे आसानी से 7 से 8 घंटे में यहां पहुंच जाएंगी। पूर्वांचल के लोग इंडस्ट्री लगाने के लिए बाहर जाते थे, उन्हें जमीने पर इस एक्सपे्रस-वे के किनारे ही प्राप्त हो जायेगी। उनको अब सभी सुविधाएं इसी एक्सप्रेस-वे के किनारे उपलब्ध हो जागी। उन्होंने कहा कि एक्सप्रेस-वे का कार्य लगभग 90 प्रतिशत से अधिक पूर्ण हो चुका है। जो भी समय निर्धारित किया गया था, उससे 06 महीने पहले पूर्ण कर लिया जाएगा।

इस अवसर पर मंडलायुक्त विजय विश्वास पंत, डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे, डीएम राजेश कुमार, एसपी सुधीर सिंह, मुख्य राजस्व अधिकारी हरि शंकर, अपर जिलाधिकारी प्रशासन नरेंद्र सिंह, अपर जिलाधिकारी वि./रा. गुरु प्रसाद, यूपीडा के संबंधित अधिकारी एवं संबंधित कार्यदायी संस्थाओं के प्रतिनिधि सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.