वृक्षारोपण कार्यक्रम सिर्फ एक औपचारिक कार्यक्रम न बने : सीएम योगी

सीएम योगी ने कहा कि वृक्षारोपण कार्यक्रम सिर्फ एक औपचारिक कार्यक्रम न बने

0 13

लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर अपने लखनऊ स्थित सरकारी आवास पर पौधारोपण कर प्रदेशवासियों को पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। सीएम योगी ने कहा कि वृक्षारोपण कार्यक्रम सिर्फ एक औपचारिक कार्यक्रम न बने। बल्कि उन परम्परागत वृक्षों को महत्व दें, जिनका प्रकृति की सुरक्षा और संरक्षण में योगदान है। पीपल, बरगद, पाकड़, देसी आम व अन्य औषधीय वृक्षों का रोपण किया जाए। विगत वर्ष वन विभाग को एक और लक्ष्य दिया था कि 100 वर्ष की उम्र से अधिक जितने भी पेड़ हैं, उन्हें हेरिटेज वृक्ष के रूप में संरक्षित करने का महाभियान चलाया जाए।

इसको लेकर भी एक वृहद कार्यक्रम आगे चलेगा। हम सब तभी तक सुरक्षित हैं, जब तक हमारा पर्यावरण सुरक्षित है। हमें प्रकृति व पर्यावरण के बीच में समन्वय बनाकर रखना होगा, यह हमारा नैतिक दायित्व भी है। इस वर्ष भी हम लोगों ने एक लक्ष्य रखा है। वन महोत्सव के कार्यक्रम जुलाई माह के प्रथम सप्ताह से प्रारंभ होंगे, जिसमें 30 करोड़ वृक्षारोपण का लक्ष्य है। इस कार्यक्रम में वन विभाग, यूपी सरकार के सभी विभाग, सभी संस्थाएं, ग्राम पंचायतें, नगर निकाय और जनता जनार्दन जुड़ती है। इस तरह प्रकृति की सुरक्षा के लिए एक प्रयास प्रारंभ होता है। बीते 04 वर्षों में पर्यावरण की सुरक्षा के लिए  यूपी सरकार ने कई कदम उठाए हैं। वर्ष 2017 में वृहद पैमाने पर वृक्षारोपण का कार्यक्रम चलाया गया, जिसमें 05 करोड़ वृक्षारोपण का लक्ष्य रखा गया। वर्ष 2018 में 11 करोड़ और वर्ष 2019 में 22 करोड़ वृक्षारोपण का लक्ष्य प्राप्त किया। विगत वर्ष कोविड के बावजूद 25 करोड़ से अधिक वृक्षारोपण का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। पर्यावरण है तो प्रकृति भी है। प्रकृति है तो जीव सृष्टि भी है। इसलिए जीव सृष्टि की सुरक्षा के लिए आवश्यक है कि हम सब पर्यावरण के प्रति जागरूक हों।

Leave A Reply

Your email address will not be published.