यूपी एटीएस ने 6 आरोपियों के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट

0 3

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अवैध धर्मांतरण मामले में यूपी एटीएस  ने 6 आरोपियों के खिलाफ स्पेशल कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की है। एटीएस ने जांच के बाद उमर गौतम, जहांगीर आलम, मन्नू यादव उर्फ अब्दुल मन्नान, राहुल भोला उर्फ राहुल अहमद, इरफान शेख और सलाउद्दीन के खिलाफ दाखिल आरोप पत्र जारी किया और सभी को गिरफ्तार कर लिया है। आईपीसी की धारा 417, 120बी, 153ए, 153बी, 295ए, 298 और अवैध धर्म परिवर्तन एक्ट के तहत सभी आरोपियों पर कार्रवाई की गई है।

चार्जशीट में कहा गया कि इन अभियुक्तों के खिलाफ पर्याप्त सबूत मिले हैं, जिनके आधार पर कारवाई की गई। इनके द्वारा बड़े स्तर पर अवैध धर्म स्थानांतरण कराया जा रहा है। जिसके तार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी जुड़े हुए हैं। ये आर्थिक रूप से कमजोर लोगों, महिलाओं, दिव्यांग (विशेष कर मुक-बधिरों) को बहला-फुसलाकर उनकी इच्छा के खिलाफ धर्म परिवर्तन करवा देते थे। चार्जशीट में उमर गौतम, काज़ी जहांगीर पर अवैध धर्म परिवर्तन का इंटरनेशनल गिरोह चलाने का आरोप लगाया गया है। साथ ही कहा गया है कि ये लोग धर्मांतरित लोगों को रेडिक्लाइज करते थे।

इस्लामिक दावा सेंटर, गाजियाबाद और नोएडा डेफ सोसायटी को अवैध धर्म परिवर्तन का केंद्र बनाया गया था। एटीएस के अनुसार देश का जनसंख्या संतुलन बिगाड़कर लोक अशांति फैलाने के भी सबूत मिले हैं। विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट कस्टम की कोर्ट में ये चार्जशीट दाखिल की गई है।

इसमें कहा गया है कि अवैध धर्म परिवर्तन के लिए विदेशों में बैठे इनके सहयोगियों द्वारा भारी मात्रा में हवाला के माध्यम से उमर गौतम को पैसा भेजा जा रहा था। उमर गौतम इन पैसों को अपने गिरोह के सदस्यों को भेजता था और उसके बाद इसका इस्तेमाल अवैध धर्म परिवर्तन कराने में होता था। कहा गया है कि आईडीसी ऐसा संस्थान है, जहां धर्मांतरण के शिकार लोगों का अपने अवैध नेटवर्क का प्रयोग करके झूठी सूचनाओं के आधार पर धर्मांतरण संबंधी कागजात तैयार कराए जाते थे। बता दें कि 20 जून को यूपी एटीएस ने अवैध धर्मांतरण मामले में पहली बार खुलासा करते हुए 2 लोगों को  गिरफ्तार किया था। अवैध धर्मांतरण मामले में अब तक 10 आरोपी जेल में हैं। फिलहाल जांच जारी है। यूपी एटीएस ने 60 दिन में कार्रवाई करते हुए आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.