सत्ता में आए तो कश्मीर में आर्टिकल 370 का फैसला पलटेंगे : दिग्विजय सिंह

0 0

-कथित रूप से जम्मू-कश्मीर में धारा 370 बहाल करने की बात कर रहे दिग्विजय
-शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि यह कांग्रेस की पाकिस्तानी मानसिकता
-संबित पात्रा बोले-  कांग्रेस और पाकिस्तान के विचार एक जैसे हैं
-फारुख अब्दुल्ला ने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का शुक्रिया अदा किया

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का क्लब हाउस चैट लीक हो गया है, जिसमें वह कथित रूप से कह रहे हैं कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 को फिर से बहाल करने पर विचार करेंगे। दरअसल, दिग्विजय देश-विदेश के कुछ पत्रकारों से वर्चुअली बात कर रहे थे। इस दौरान शाहजेब जिल्लानी धारा-370 से जुड़ा एक सवाल कांग्रेस महासचिव से पूछा। दावा किया जा रहा है कि जिल्लानी एक पाकिस्तानी पत्रकार हैं। जिल्लानी ने पूछा था कि जब मौजूदा सरकार जाती है और भारत को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद दूसरा प्रधानमंत्री मिल जाता है, तो कश्मीर पर आगे का रास्ता क्या होगा? मुझे पता है कि अभी भारत में जो हो रहा है, उसके कारण यह हाशिये पर है। हालांकि, यह एक ऐसा मुद्दा है जो दोनों देशों के बीच इतने लंबे समय से मौजूद है। कांग्रेस नेता ने कहा कि मुस्लिम बहुल राज्य में एक हिंदू राजा था। दोनों ने साथ काम किया। दरअसल, कश्मीर में सरकारी सेवाओं में कश्मीरी पंडितों को आरक्षण दिया गया था। इसलिए अनुच्छेद-370 को रद्द करना और जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा कम करना अत्यंत दुखद निर्णय है। हमें निश्चित रूप से इस मुद्दे पर फिर से विचार करना होगा।
इस चैट पर सियासी बखेड़ा शुरू हो गया है। इसे लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दिग्विजय सिंह के ऊपर बड़ा हमला किया है। वहीं, कथित रूप से यह भी दावा किया जा रहा है कि उस क्लब हाउस चैट में एक पाकिस्तानी पत्रकार भी मौजूद थे। चैट लीक होने के बाद बीजेपी ने दिग्विजय सिंह को घेर लिया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कश्मीर भारत का मुकुटमणि है, अभिन्न अंग है, ये कांग्रेस ही थी, जिसने कश्मीर में धारा-370 लगाने का पाप किया था।
क्लब हाउस चैट का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाए जाने के फैसले पर बोल रहे हैं। उनके कथित ऑडियो में वह बोल रहे हैं कि यहां से जब धारा-370 हटाई गई, तब लोकतांत्रिक मूल्यों का पालन नहीं किया गया। इस दौरान न ही इंसानियत का तकाजा रखा गया और इसमें कश्मीरियत भी नहीं थी। सभी को कालकोठरी में बंद कर दिया गया। अगर कांग्रेस सरकार सत्ता में आई, तो हम इस फैसले पर फिर से विचार करेंगे और धारा-370 लागू करेंगे।

फारुख अब्दुल्ला बोले- शुक्रिया
इसके बाद एक ओर बीजेपी दिग्विजय पर हमलावर दिखी, तो वहीं नेशनल कॉन्फ्रेंस चीफ फारुख अब्दुल्ला ने कांग्रेस नेता का शुक्रिया अदा किया। फारूक अब्दुल्ला ने क्लब हाउस चैट के दौरान दिग्विजय सिंह द्वारा की गई टिप्पणी की सराहना की और कहा कि उन्होंने लोगों की भावनाओं को महसूस किया है। फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि मैं दिग्विजय सिंह जी का बहुत आभारी हूं। उन्होंने लोगों की भावनाओं को महसूस किया है। मैं इसका तहे दिल से स्वागत करता हूं और उम्मीद करता हूं कि सरकार इस पर (आर्टिकल 370) दोबारा गौर करेगी।
वहीं, बीजेपी से राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस आज भी पाकिस्तान का पक्ष लेने से नहीं चूकती। यही कांग्रेस की नीति और नीयत का सच है। मुझे आश्चर्य नहीं हुआ। वहीं, फारुख ने कहा कि मैं दिग्विजय जी का बहुत आभारी हूं। उन्होंने लोगों की भावनाओं को महसूस किया है। मैं उम्मीद करता हूं कि सरकार इस पर दोबारा गौर करेगी।

क्या बोले शिवराज चौहान ?
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री और बीजेपी की सरकार ने जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटा दिया है। उन्होंने कहा कि अब देश में दो विधान, दो निशान नहीं हैं। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ है। यह कांग्रेस की पाकिस्तानी मानसिकता है। कांग्रेस फिर से पाकिस्तान की भाषा बोल रही है। उनके नेता दिग्विजय कहते हैं कि धारा 370 हटाने पर पुनर्विचार किया जाएगा? क्या पुनर्विचार करेगी कांग्रेस ? क्या फिर धारा-370 थोप के अलगाववाद को हवा देगी? उन्होंने कहा कि कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ फिर से आतंकवाद को प्रश्रय देगी। यह कांग्रेस की पाकिस्तानी मानसिकता है। शिवराज ने कहा कि जो पाकिस्तान कहता है, वही कांग्रेस कहती है। सोनिया जी जवाब दो, देश आपसे जवाब चाहता है।

क्या बोले संबित पात्रा ?
बीजेपी नेता संबित पात्रा ने कहा कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह क्लब हाउस में भारत के खिलाफ बोल रहे और पाकिस्तान की हां में हां मिला रहे हैं। ये वही दिग्विजय सिंह हैं, जिन्होंने पुलवामा हमले को एक दुर्घटना बता दिया था, इन्होंने ही 26/11 के हमले को आरएसएस की साजिश बताया था। दिग्विजय जी कहते हैं कि अगर मोदी जी सत्ता से हटते हैं, कांग्रेस सरकार आती है तो वो जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को फिर से स्थापित करेगी। यह दर्शाता है कि कांग्रेस और पाकिस्तान के विचार एक जैसे हैं। दिग्विजय सिंह ने जो आज कहा है उसके लिए पहले से स्टेज मैनेज रहा होगा। दिग्विजय सिंह के इस बयान पर सोनिया गांधी और राहुल गांधी क्या सोचते हैं? क्या ये कांग्रेस की राय है या नहीं है? हम चाहते हैं कि राहुल गांधी इस पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सच्चाई बताएं।

अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाई गई
केंद्र सरकार ने 5 अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल-370 को खत्म कर दिया था। सरकार ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग केंद्र शासित प्रदेश बना दिया था। जम्मू-कश्मीर में 20 और लद्दाख में दो जिले लेह और कारगिल शामिल किए गए।

Attachments area
Leave A Reply

Your email address will not be published.