कानपुर में खाकी शर्मसार, महिला ने भीख मांगकर दारोगा को दी घूस

0 3

कानपुर। यूपी के कानपुर जिले में पुलिस ने एक बार फिर से अपनी कार्यशैली से मानवता को शर्मसार किया। दरअसल, भीख मांगकर गुजारा करने वाली विधवा व दिव्यांग महिला ने कानपुर पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए है। महिला का कहना है कि उसने पुलिस की गाड़ी में 12 से 15 हजार रुपए का डीजल भरवाया है, ताकि पुलिस उसकी नाबालिग बेटी की तलाश कर सकें, जो पिछले महीने लापता हो गई थी। हालांकि, महिला का कहना है कि पुलिस उसकी बेटी का अभी तक कोई पता नहीं लगा सकी है। एक महीने इंतजार के बाद जब आस टूट गई तो उस महिला ने अब डीआईजी से गुहार लगाई है।

क्या है मामला ?

मामला उत्तर प्रदेश में कानपुर जिले के थाना चकेरी के सनिगवां गांव का है। यहां रहने वाली गुड़िया बैसाखी के सहारे चलती हैं और भीख मांगकर गुजर-बसर करती हैं। उसकी 15 साल की बेटी एक महीने से लापता है। दूर के रिश्तेदार पर अगवा करने का आरोप है। गुड़िया की शिकायत पर पुलिस ने गुमशुदगी तो दर्ज कर ली, लेकिन बेटी की बरामदगी की फरियाद लिए जब भी थाने जाती उसे फटकार कर भगा देते थे।

क्या है आरोप ?

आरोप है कि चौकी सनिगवां के चौकी इंचार्ज राजपाल सिंह ने महिला की बेटी को खोजने के नाम पर गुड़िया से गाड़ी में डीजल डलवाने की बात कही। उसने पेशकश मान ली, फिर यह सिलसिला चल पड़ा। हालांकि, जब वह बेटी की बरामदगी की बात करती तो चौकी इंचार्ज वादा कर देते। गुड़िया का कहना है कि उसने 12 से 15 हजार रुपए का डीजल पुलिस की गाड़ी में डलवाया है। इसके बाद भी बेटी का पता नहीं चला। मजबूरी में उसने डीआईजी डॉ. प्रितिंदर सिंह से गुहार लगाई।

आरोपी पुलिसकर्मी निलंबित

कानपुर पुलिस ने महिला का वीडियो ट्वीट करते हुए कहा है कि डीआईजी डॉ. प्रितिंदर सिंह ने चौकी इंचार्ज सनिगवां उप निरीक्षक राजपाल सिंह पर लगाये गये आरोप प्रथम दृष्टया प्रमाणित होने पर निलंबित कर दिया गया है,अग्रिम कार्यवाही की जा रही है। फिलहाल इस मामले में विभागीय जांच के आदेश दे दिए गए हैं। लड़की की बरामदगी के लिए सीओ कैंट के निर्देशन में चार टीमें गठित की गई हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.