Friday , October 7 2022

 मध्य प्रदेश की संस्कृति मंत्री का बड़ा बयान, कहा- मदरसों में पनपते है आतंकी

इंदौर: मध्यप्रदेश में होने वाले उप-चुनाव को लेकर नेताओं की विवादित बयानबाजी जारी है। यह सिलसिला रविवार को प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के “आइटम’ वाले बयान से शुरू हुआ। वहीं सोमवार को शिवराज के एक मंत्री ने विपक्षी नेता की पत्नी को ‘रखैल’ बताया। अब प्रदेश की संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने शिक्षा के संबंध में पूछे गए सवाल पर विवादित बयान दे डाला। उन्होंने कहा- सारे आतंकवादी मदरसों में पले-बढ़े और जम्मू-कश्मीर को आतंकवाद की फैक्ट्री बना डाला।

मध्यप्रदेश की पर्यटन और संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि- सभी बच्चों को समान शिक्षा दी जानी चाहिए। धर्म आधारित शिक्षा कट्टरता फैला रही है। नफरत फैला रही है। ऐसे मदरसे जो हमें राष्ट्रवाद और समाज की मुख्यधारा से नहीं जोड़ सकते, हमें उन्हें ही सही शिक्षा से जोड़ना चाहिए और समाज को सबकी प्रगति के लिए आगे लेकर जाना चाहिए।

बंद होनी चाहिए मदरसों को मिलने वाली सरकारी मदद

उषा ठाकुर ने आगे कहा- राष्ट्रवाद में बाधा डालने वाली चीजें राष्ट्रहित में बंद होनी चाहिए। असम ने मदरसे बंद करके दिखाया भी है। मदरसों को मिलने वाली सरकारी मदद बंद होनी चाहिए। अगर कोई निजी तौर पर अपने धार्मिक संस्कार किसी को देना चाहता है तो संविधान उसे इसकी इजाजत देता है।

संस्कृति मंत्री ने कमलनाथ पर भी बयान दिया

उषा ठाकुर ने पूर्व की कमलनाथ सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि कमलनाथ ने कहा था कि मदरसे के इमाम को 5 हजार, मुअज्जिन को 4500 रुपए महीने सैलरी देंगे। वक्फ बोर्ड आर्थिक दृष्टि से दुनिया का सबसे बड़ा संगठन है। यहां कोई व्यवस्था करनी है तो उन्हीं के माध्यम से की जा सकती है। सरकार का इस पर अतिरिक्त खर्च दूसरे वर्गों का हक छीनने वाली बात है। कांग्रेस से पूछा जाना चाहिए कि क्या निजी स्वार्थ के लिए वो धर्म, प्रथा-व्यवस्थाएं सबकुछ बलिदान कर देंगे।

उन्होंने कहा- पाकिस्तान में 14% हिंदू था, ये अब एक फीसदी हो गया। ऐसे यातना सहने वालों को नागरिकता दी जाती है तो कांग्रेस को तकलीफ होती है, ऐसे राष्ट्रद्रोही चेहरे बेनकाब होने चाहिए।

 

Leave a Reply