Tuesday , May 24 2022

बिहार के 15 स्टेशनों पर खड़े किए जाएंगे कोविड केयर कोच

पटना : कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए रेल मंत्रालय ने एक बड़ी पहल की शुरुआत की है. राज्य सरकार के सहयोग से रेल मंत्रालय द्वारा रेलवे के कोच को आइसोलेशन सेंटर के रूप में इस्तेमाल करने का फैसला लिया गया है. इन कोविड केयर कोच को तय समय पर स्टेशनों पर खड़ा किया जाएगा. इसी कड़ी में बिहार के 15 स्टेशनों को चुना गया है.

15 स्टेशनों पर 20-20 की संख्या में खड़े किए जाएंगे 300 आइसोलेशन कोच

महामारी से बिगड़ते हालातों को देखते हुए भारत सरकार द्वारा मेडिकल उपकरणों से तैयार, पर्याप्त संख्या में आइसोलेशन कोच की व्यवस्था को शुरू किया जा चूका हैं. मंत्रालय ने ये फैसला लिया है कि इन 15 स्टेशनों पर 20-20 की संख्या में कुल 300 आइसोलेशन कोच को खड़ा किया जाएगा. इस पहल से पीड़ित मरीजों का इलाज करने में काफी मदद मिलेगी. पूर्व मध्य रेल की ओर से 269 कोच को आइसोलेशन कोच के रूप में परिवर्तित किया जा चुका है.

इन 15 स्टेशनों पर रुकेंगे कोच

पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि ‘ये कोविड केयर कोच बिहार के पटना, सोनपुर, नरकटियागंज, जयनगर, रक्सौल, बरौनी, मुजफ्फरपुर, सहरसा, सीवान, समस्तीपुर, दरभंगा, सीतामढ़ी, छपरा, कटिहार और भागलपुर स्टेशनों पर लगाए जाएंगे. उन्होंने बताया कि, ‘सभी स्टेशनों पर खड़े इन कोविड केयर कोच में सामान्य श्रेणी के 20 कोच हैं और प्रत्येक कोच में 16 मरीज रखे जा सकते हैं. प्रत्येक पांच कोच के बाद एक एयर कंडीशनर कोच होगा और उसके आगे फिर पांच कोच होंगे. एयर कंडीशनर कोच डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ और दूसरे कर्मियों के इस्तेमाल के लिए होंगे.’

मेडिकल स्टाफ को पीपीई किट और अन्य सामान देगी राज्य सरकार

वहीँ चिकित्सकों की सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए मेडिकल स्टाफ को पीपीई किट और अन्य चिकित्सा सामग्री राज्य सरकार खुद उपलब्ध कराएगी, जबकि कोच के रख-रखाव के लिए तैनात स्टाफ को यह सुविधा रेलवे प्रदान करेगी. मरीजों के लिए दवा, चिकित्सा सामग्री, ऑक्सीजन सिलेंडर एवं इससे जुड़ी अन्य सामग्री, खान-पान, शुद्ध पेयजल, आवश्यकता पड़ने पर पानी का टैंकर, बॉयो टॉयलेट, कचरों का संग्रहन एवं इसे व्यवस्थित करना, आदि राज्य सरकार द्वारा सुनिश्चित किया जाएगा. जबकि कोचों में पानी भरने, विद्युत आपूर्ति, बुनियादी ढांचे का रख-रखाव, संचार एवं सुरक्षा की जिम्मेवारी रेल प्रशासन की होगी.

Leave a Reply