कांग्रेस नेतृत्व का फैसला मानेंगे कैप्‍टन

0 1

जालंधर। प्रदेश कांग्रेस में मचे घमासान को सुलझाने के लिए चंडीगढ़ पहुंचे राज्य इंचार्ज हरीश रावत व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की बैठक खत्म हो गई है। इसके बाद कैप्टन ने ट्वीट के जरिए अपना बयान दिया कि उन्हें सोनिया गांधी का हर फैसला मंजूर होगा। वहीं, हरीश रावत ने भी बैठक के बाद कहा कि कैप्टन पहले दिए हाईकमान के फैसले से सहमत होने के बयान पर ही कायम हैं। हालांकि यह पंजाब कांग्रेस में चल रहे घमासान का अंत है या फिर कोई क्लाइमेक्स बाकी है, इसको लेकर कांग्रेस के पंजाब में प्रदेश प्रधान की औपचारिक घोषणा का इंतजार किया जा रहा है। उधर, नवजोत सिद्धू पंजाब प्रदेश कांग्रेस के प्रधान की औपचारिक घोषणा से पहले ही लगातार मंत्रियों व विधायकों से मिल रहे हैं। इसकी शुरुआत उन्होंने शनिवार सुबह कांग्रेस के मौजूदा प्रधान सुनील जाखड़ से पंचकूला में मुलाकात से की थी।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मिलने के बाद पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पहले जो एक महान बयान दिया था कि जो निर्णय कांग्रेस अध्यक्ष लेंगी वो उसको मानेंगे, आज उन्होंने अपने उस बयान को दोहराया।

जाखड़ से मुलाकात के बाद जब सिद्धू उनके साथ बाहर निकले, तो एक-दूसरे को गले लगाया। जाखड़ ने सिद्धू को शुभकामनाएं दी। इस दौरान सिद्धू ने कहा कि यह बैठक बड़ों का मार्गदर्शन लेने के लिए हुई है। माना जा रहा है कि सिद्धू की पंजाब प्रधान के तौर पर ताजपोशी तय है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का हर फैसला उन्हें मंजूर होगा। उन्होंने कुछ मुद्दे रावत के आगे उठाए हैं। उन्होंने भरोसा दिया है कि वो इस मुद्दे को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के समक्ष उठाएंगे। रावत बोले, कैप्टन हाईकमान के फैसले से सहमत हरीश रावत ने कहा कि कैप्टन ने पहले ही कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष की तरफ से जो भी फैसला लिया जाएगा, वो उन्हें मंजूर होगा। कैप्टन का अब भी वही रुख है। उन्होंने कहा कि वो इससे ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहते।

वहीं, सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह से नाराज चल रहे सुखजिंदर सिंह रंधावा से भी मुलाकात की हैं। अब वे सेहत मंत्री बलवीर सिद्धू से मिलने पहुंचे हैं। कई विधायक भी इन मंत्रियों के घर पर मौजूद हैं। नियुक्ति से पहले की इस हलचल से कांग्रेसियों को इशारा मिल रहा है कि सिद्धू की पंजाब कांग्रेस के नए प्रधान होंगे। रावत की कैप्टन से मुलाकात के बाद इसका औपचारिक ऐलान हो सकता है।

नवजोत सिद्धू ने मंत्री सुखजिंदर रंधावा के बाद सेहत मंत्री बलवीर सिद्धू के घर पर बैठक की। जिसमें पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान लाल सिंह, विधायक कुलबीर जीरा, शेर सिंह घुबाया, अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग भी मौजूद रहे। इसके बाद वो कैप्टन के करीबी माने जाते मंत्री गुरप्रीत कांगड़ से भी मिले। इस मामले को लेकर सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा कि सिद्धू से उनकी 2 महीने से बैठक हो रही है, यह भी उसका ही हिस्सा है। सिद्धू उनसे मिलने आए थे तो उन्होंने कहा कि उनके कॉम्प्लेक्स में रहने वाले बाकी सभी नेताओं से मिल लें। नवजोत सिद्धू के पंजाब कांग्रेस प्रधान बनने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बारे में घोषणा के बाद वो कुछ कहेंगे।

पंजाब कांग्रेस इंचार्ज हरीश रावत से बैठक के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह के हाईकमान से फैसले से सहमत होने के बाद अब यह चर्चा हो रही है कि क्या कैप्टन नवजोत सिद्धू की प्रधानगी के हाईकमान के फैसले के आगे झुक गए हैं। यह भी चर्चा है कि इसके बदले उन्हें मंत्रिमंडल में अपने हिसाब से बदलाव करने की छूट दे दी गई है। उसमें सिद्धू या फिर हाईकमान की तरफ से कोई सीधा दखल नहीं दिया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.