Saturday , October 1 2022

जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल ‘Saxena जी’ को पड़ा भारी, कटा चालान

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के लोगों को अपने वाहनों पर जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करना महंगा पड़ रहा है. सूबे की योगी सरकार के सख्त निर्देश पर यूपी पुलिस ने चारबाग तथा पास के क्षेत्र में गाड़ियों पर जातिसूचक शब्द के खिलाफ अभियान की शुरुआत की है, जिसके परिणाम पहले दिन से ही देखने को मिल रहें हैं.

First Challan Cut In Lucknow In Case Of Use Of Caste Word - यूपीः जातिसूचक  शब्द इस्तेमाल के मामले में 'सक्सेना जी' के नाम कटा पहला चालान - Amar Ujala  Hindi News Live

लखनऊ के दुर्गापुरी क्षेत्र में यूपी पुलिस द्वारा वाहन चेकिंग के दौरान कानपुर के रजिस्ट्रेशन नंबर की मारुति वैन मिली, जिस पर जातिसूचक शब्द ‘सक्सेना’ लिखा था. इस पर पुलिस ने ड्राईवर को चेतावनी दी और इस शब्द को पेंट कराने के लिए कहा. ड्राईवर को हिदायत दी गई कि वाहन पर सिर्फ नंबर एक निर्धारित साइज में लिखा होना चाहिए, इसके अलावा कुछ नहीं. हालांकि, पुलिस ने वैन चालक के मास्क न पहनने के कारण चालान कर दिया.

Now In Uttar Pradesh Heavy Penalties Will Be Imposed On Writing A Caste  Word On A Car. - वाहनों पर 'जातिसूचक' शब्द लिखना अब पड़ेगा बहुत भारी, जब्त  होगी गाड़ी और कटेगा

बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार उन लोगों के साथ सख्ती से पेश आ रही है जो किसी भी वाहन पर जातिवादी शब्द का प्रयोग रौब दिखने के लिए करते हैं. ऐसे वाहन मिलने पर उन्हें सीज कर दिया जाएगा. उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में कार के साथ बाइक, बस, ट्रक, ट्रैक्टर और यहां तक ई-रिक्शा पर भी राजपूत, ब्राह्मण, यादव, जाट, क्षत्रिय समेत तमाम जातिसूचक शब्द दिखते हैं. बता दें कि मामले पर महाराष्ट्र के शिक्षक हर्षल प्रभु ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर शिकायत की थी कि यूपी में दौड़ते इस प्रकार के जातिवादी वाहन समाज के लिए खतरा है.

 

Leave a Reply