Thursday , July 7 2022

गुपकार पर सियासत : CM योगी ने पूछा- Congress को शांति बहाली से क्या समस्या ?

लखनऊ। जम्मू-कश्मीर के गुपकार गुट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) हमलावर है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जम्मू कश्मीर के मुद्दे को लेकर कांग्रेस पार्टी का जो दोहरा रवैया है। वो राष्ट्रीय एकता के साथ खिलवाड़ है। उन्होंने कहा कि एक भारत, श्रेष्ठ भारत की परकल्पना के साकार होने के बाद कांग्रेस उसमें बाधा बनकर क्या साबित करना चाहती है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को लेकर कांग्रेस पार्टी का जो दोहरा रवैया है ये राष्ट्रीय एकता के साथ सीधे-सीधे खिलवाड़ है। कांग्रेस ने सदैव राष्ट्रीय अस्मिता के साथ खिलवाड़ किया है,प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से उन तत्वों को प्रेरित करती रही, जो देश के अंदर अलगाववाद और अराजगता को बढ़ावा देता है कांग्रेस पार्टी ही इस बात की ज़िम्मेदार है जिसने एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को कभी साकार नहीं होने दिया। जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 लागू करके जम्मू कश्मीर में न केवल अलगाववाद को बढ़ावा दिया बल्कि अलगाववाद के जरिए पूरे देश के अंदर आतंकवाद को बढ़ावा दिया।

क्या है गुपकार डिक्लेरेशन?

श्रीनगर के गुपकार रोड पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के मुखिया फारूक अब्दुल्ला का घर है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने के एक दिन पहले 4 अगस्त, 2019 को आठ स्थानीय दलों ने यहां बैठक की थी। इसमें एक प्रस्ताव पारित किया गया था। उसे ही गुपकार डिक्लेरेशन कहा गया। गुपकार डिक्लेरेशन में आर्टिकल-370 और 35ए की बहाली के साथ ही जम्मू-कश्मीर के लिए राज्य का दर्जा मांगा गया है। सहयोगी दलों के सबसे सीनियर नेता होने के नाते डॉ. फारूक अब्दुल्ला को इसका अध्यक्ष बनाया गया है। इसकी एक वजह उनकी पार्टी का मजबूत कैडर होना भी है।

गठबंधन में 6 पार्टियां शामिल

गुपकार डिक्लेरेशन को अमलीजामा पहनाने के लिए छह दलों ने हाथ मिलाया है। इनमें डॉ. फारूक अब्दुल्ला की अध्यक्षता वाली नेशनल कॉन्फ्रेंस, महबूबा मुफ्ती की अगुआई वाली पीडीपी के अलावा सज्जाद गनी लोन की पीपुल्स कॉन्फ्रेंस, अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस, जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट और माकपा की स्थानीय इकाई शामिल है।

Leave a Reply