Monday , August 15 2022

यूपी में भी वायरोलॉजी सेंटर स्थापित किया जाए : सीएम योगी

लखनऊ। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा बैठक में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन पर अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यू.के. आदि देशों से प्रदेश में आए लोगों को न्यूनतम 7 दिन तक क्वारंटीन किया जाए। साथ ही इन व्यक्तियों की कोरोना संबंधी जांच भी की जाए। सीएम ने कहा कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे की तर्ज पर प्रदेश में वायरोलॉजी सेंटर विकसित किया जाए।

कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने में टेस्टिंग कार्य पूरी क्षमता से संचालित किया जाए। वैक्सिनेशन कार्य के लिए प्रभावी कोल्ड चेन, सुरक्षित स्टोरेज तथा सुगम ट्रांसपोर्टेशन के समस्त प्रबंध भारत सरकार की गाइडलाइंस के अनुरूप किए जाएं। वैक्सिनेशन को लेकर तैयारियों की नियमित मॉनिटरिंग की जाए। सीएम ने बताया कि कोरोना वैक्सिनेशन के प्रथम चरण के दौरान प्रदेश में 1,500 वैक्सिनेशन सेंटर्स के 3,000 बूथ पर टीकाकरण कार्य किया जाएगा।

इसके लिए 1,300 कोल्ड चेन स्थापित हो चुकी हैं। सीएम ने कहा कि सभी अस्पतालों, नर्सिंग होम एवं अन्य चिकित्सा संस्थानों में फायर सेफ्टी के सभी प्रबंध निर्धारित मानकों के अनुरूप सुनिश्चित किए जाएं। फायर सेफ्टी उपकरणों के ऑपरेटर भी उपलब्ध हों। व्यवस्थाओं का सत्यापन भी अनिवार्य रूप से हो।

तीसरी बार ड्राई रन करने वाला पहला राज्य बनेगा यूपी

उत्तर प्रदेश के अंदर कोरोना वायरस वैक्सिनेशन की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। तो वहीं, प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ खुद इन तैयारियों की समीक्षा कर रहे हैं। बता दें कि सीएम योगी ने 11 जनवरी को प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए तीसरी बार किए जा रहे ड्राई रन को पूरी प्रतिबद्धता से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही सभी तैयारियों की गहन समीक्षा और जिलों में किए जा रहे कार्यों की नियमित मानिटरिंग के निर्देश भी दिए है।

बता दें, प्रदेश में पांच और आठ जनवरी को सफलतापूर्वक ड्राई रन का संचालन किया जा चुका गया है। अब तीसरी बार 11 जनवरी को भी ड्राई रन का संचालन किया जाना है। देश में पहला राज्य यूपी है, जो कोरोना वैक्सीन को लेकर तीसरी बार भी ड्राई रन करने जा रहा है। यह अभियान सभी जिलों के छह स्थानों (तीन शहरी और तीन ग्रामीण) में चलाया जाएगा। प्रदेश में तीन चरणों में टीकाकरण का संचालन किया जाएगा। सीएम योगी रोजाना होने वाली उच्च स्तरीय बैठक में वैक्सिनेशन की तैयारियों को लेकर समीक्षा कर रहे हैं। इस बाबत उन्होंने साफ निर्देश दिए हैं कि भारत सरकार की गाईड लाइन का अक्षरश: पालन किया जाए।

पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों का होगा टीकाकरण

पहले चरण में सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण होगा। करीब नौ लाख स्वास्थ्य कर्मियों का तीन दिन में टीकाकरण होगा। चौथे दिन इस श्रेणी के छूटे हुए लोगों को एक और अवसर दिया जाएगा।

दूसरे चरण में आवश्यक सेवाओं के लिए कार्यरत कर्मियों को लगेगा टीका

दूसरे चरण में पुलिस, जेल कर्मी, होमगार्ड, नगरीय निकायों के स्वच्छता कर्मियों, सिविल डिफेंस और सर्विलांस आदि कार्यों में लगे राजस्व कर्मियों को टीका लगेगा। तीसरे चरण में 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोग और 50 वर्ष से कम उम्र के ऐसे लोग जो डायबिटीज, कैंसर आदि गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं, उनका वैक्सीनेशन होगा।

कोरोना संक्रमण के 646 नए मामले

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 646 नए मामले सामने आए हैं। ठीक होकर डिस्चार्ज होने वालों की संख्या 884 है। सक्रिय मामलों की संख्या अब घटकर 11,221 रह गई है। संक्रमण के बाद अब तक 8,481 लोगों की मृत्यु हुई है। शुक्रवार को प्रदेश में 1,44,628 सैंपल की जांच की गई। अब तक कुल मिलाकर 2,51,78,712 सैंपल की जांच की गई है। इन सारे सैंपल में से 42 फीसदी से ज़्यादा जांच आरटी-पीसीआर के माध्यम से की गई है।

वहीं, उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि वर्तमान समय में किसानों से 562 लाख क्विंटल धान खरीदा जा चुका है। अभी तक 9,51,000 क्विंटल मक्का की खरीद की जा चुकी है। बुंदेलखंड में अब तक 6,000 क्विंटल मूंगफली की भी खरीद की जा चुकी है। महाराष्ट्र के भंडारा में हुई घटना के संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि ऐसी जगह जहां भीड़-भाड़ रहती है वहां लगे अग्निशमन के उपकरणों की जांच कर उन उपकरणों को चलाने वाले लोगों को प्रशिक्षण दिया जाए।

Leave a Reply