Tuesday , September 27 2022

कोल इंडिया उत्पादन 12 प्रतिशत तक बढ़ाने को कदम उठाए

नयी दिल्ली|  बिजली मंत्रालय ने कोयला मंत्रालय से चालू वित्त वर्ष में कोल इंडिया लि. और सिंगरेनी कोलियरीज कंपनी लि. (एससीसीएल) के उत्पादन को 10 से 12 प्रतिशत बढ़ाने को लेकर कदम उठाने का आग्रह किया है।

एक सूत्र ने मंगलवार को कहा, ‘‘बिजली मंत्रालय ने कोयला मंत्रालय से चालू वित्त वर्ष में विद्युत क्षेत्र के लिये कोल इंडिया और एससीसीएल के उत्पादन को कम से कम 10-12 प्रतिशत बढ़ाने के लिये कोयला मंत्रालय से आग्रह किया है ताकि बिजली की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके और इसकी कमी न होने पाए। इससे देश के आर्थिक पुनरुद्धार में रुकावट की संभावना को समाप्त किया जा सकेगा।

सूत्र ने कहा कि बिजली मंत्रालय ने अनौपचारिक रूप से मामले को कोयला मंत्रालय के समक्ष रखा है। इस बारे में औपचारिक बातचीत जल्द की जाएगी। केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) की निगरानी वाले 155 तापीय बिजलीघरों में 23 मई, 2022 की स्थिति के अनुसार तय मानकों का 25 प्रतिशत कोयला भंडार था।

इन संयंत्रों की क्षमता 1,64,000 मेगावॉट है। सूत्र ने अनुसार, चालू वित्त वर्ष में विद्युत क्षेत्र के निजी उपयोग वाली खदानों से कोयले का उत्पादन 43 प्रतिशत बढ़कर 12 करोड़ टन तक पहुंचने का अनुमान है। ऐसे में सीआईएल और एससीसीएल से उत्पादन में मात्र चार से छह प्रतिशत वृद्धि की संभावना है।

कोल इंडिया ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिये विद्युत क्षेत्र को 54 करोड़ टन कोयला उपलब्ध कराया जबकि एसईसीएल ने 5.36 करोड़ टन कोयला उपलब्ध कराया है। अनुमानों के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष में कोल इंडिया बिजली क्षेत्र को 56.5 करोड़ टन टन तथा एससीसीएल 5.7 करोड़ टन कोयला उपलब्ध करा सकती है।