Monday , September 26 2022

ऑनलाइन खतरे बताकर बच्चों को दी जाएगी साइबर हाइजीन की क्लास

कानपुर:  बच्चों को डिजिटल फ्रॉड से बचाने के लिए स्कूलों में साइबर हाइजीन का सहारा लिया जाएगा। उन्हें डिजिटल के खतरों की जानकारी देते हुए यह सिखाया जाएगा कि वे डिजिटल कार्यों विशेषकर वित्तीय घोटालों (फाइनेंशियल फ्रॉड) से कैसे बचें। हर माह के पहले बुधवार को साइबर जागरूकता दिवस भी मनाया जाएगा। साइबर क्राइम के प्रति जागरूकता पैदा करने और डिजिटल कार्यों के कामकाज को बेहतर व सुरक्षित बनाने के लिए नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल (एनसीआरपी) शुरू किया गया था। पोर्टल के विश्लेषण से यह बात सामने आई हैं कि राष्ट्रीय स्तर पर जो भी शिकायतें दर्ज की गई हैं उसमें 60 फीसदी फाइनेंशियल फ्रॉड की हैं।साइबर हाइजीन है बचत की राह 
सीबीएसई के निदेशक (एकेडमिक्स) डॉ. जोसेफ इमैनुएल ने विद्यालयों के प्रिंसिपलों को भेजे निर्देश में कहा है कि वे स्कूलों में न सिर्फ हर माह के पहले बुधवार को साइबर जागरूकता दिवस पर बच्चों को जानकारियां दें बल्कि ऐसे की विषय दिए हैं जिसके बारे में बच्चों को रेगुलर जानकारियां देने को भी कहा गया है।

साइबर क्राइम में यहां करें शिकायत
साइबर क्राइम की स्थिति में तत्काल सहायता के लिए 1930 पर डायल करें। इसके अतिरिक्त वेबसाइट पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। साइबर क्राइम की स्थिति में जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी शिकायत दर्ज कराना चाहिए।साइबर की यह जानकारियां जरूरी हैं
कॉन्सेप्ट ऑफ ई-पेमेंट्स, एटीएम एण्ड टेली बैंकिंग, तत्काल पेमेंट सिस्टम्स, मोबाइल मनी ट्रांसफर एण्ड ई-वॉलेट्स, यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस, साइबरक्राइम्स इन इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट्स, प्रीकॉशन्स इन इलेक्ट्रॉनिक्स मनी ट्रांसफर, केवाईसी-कंसेप्ट्स, केसेस एंड सेफगार्ड्स, आरबीआई गाइडनाइन्स। इसके अतिरिक्त साइबर क्राइम एण्ड सेफ्टी, इंट्रोडक्शन टु सोशल नेटवर्क्स एवं साइबर से जुड़े कानून।