Thursday , July 7 2022

इन 10 टीवी धारावाहिकों को बंद करने का आया फरमान, देखिये लिस्ट

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन के खत्म होने के बाद टीवी के कई धारावाहिक बंद हो चुके हैं। कुछ धारावाहिक तो ऐसे रहे जिनकी शुरुआत ही लॉकडाउन खत्म होने के बाद हुई लेकिन दो से तीन महीने चलने के बाद निर्माताओं को इनपर ताला लगाना पड़ा। कोरोना महामारी से पैदा हुई इस मुश्किल घड़ी में जिस तरह सबकी परेशानी अलग अलग हैं, उसी तरह शोज के बंद होने का कारण भी निर्माताओं के पास अलग अलग है। आइए जानते हैं कि लॉकडाउन के बाद किन कारणों से किस धारावाहिक ने टीवी पर दम तोड़ा?

शुभारंभ

सबसे पहले बात करते हैं धारावाहिक ‘शुभारंभ’ की। क्योंकि, यही शो है जिसके बंद होने की घंटी हाल में ही बजी है। इस धारावाहिक की शुरुआत पिछले साल दिसंबर के महीने में हुई थी। धारावाहिक के मुख्य कलाकारों ने इसके अंतिम एपिसोड की शूटिंग पिछले शनिवार को ही की है। धारावाहिक में मुख्य भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री महिमा मकवाना ने बताया कि बहुत ही जल्द यह शो बंद होने वाला है।

अकबर का बल… बीरबल

लॉकडाउन के खत्म होने के बाद अगस्त के अंत में ही शुरू हुए धारावाहिक ‘अकबर का बल… बीरबल’ के कलाकारों ने भी साफ कर दिया है कि यह शो नवंबर के महीने में ही बंद हो जाएगा। इस शो के बंद होने का कारण शो को मिली खराब टीआरपी है। शो में ताराबाई का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री चारू असोपा ने कहा है कि उन्हें इस शो के बंद होने की जानकारी कुछ दिनों पहले ही मिली थी। शो को शुरू हुए ठीक से दो महीने भी पूरे नहीं हो पाए लेकिन दर्शकों ने शो के विचार को सिरे से नकार दिया।

गैंग्स ऑफ फिल्मिस्तान

कॉमेडी पर आधारित शो ‘गैंग्स ऑफ फिल्मिस्तान’ की शुरुआत भी इसी साल अगस्त में ही हुई थी और 24 अक्तूबर को इसकी शूटिंग खत्म भी हो गई। इस शो की निर्माता प्रीति सिमोस ने बताया कि इस शो का कॉन्ट्रैक्ट इतने ही दिनों का था इसलिए न तो कलाकारों को और न ही निर्माताओं को इसके बंद होने का कोई अफसोस है। प्रीति ने कहा, ‘हमने चैनल के साथ 50 एपिसोड का कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था। इसमें सुनील ग्रोवर और सुगंधा मिश्रा के साथ तारीखों की भी दिक्कतें आ रही थीं। ये दोनों कलाकार अपने दूसरे प्रोजेक्ट्स में भी व्यस्त हैं। टीआरपी से भी बड़े कई और मुद्दे हैं जिसकी वजह से यह शो बंद हुआ है।’

कहत हनुमान जय श्री राम

पौराणिक कथाओं पर आधारित धारावाहिक ‘कहत हनुमान जय श्री राम’ भी अंतिम बार 9 अक्तूबर को ही टीवी पर प्रसारित हुआ था। इस शो की शुरुआत भी इसी साल जनवरी में ही हुई लेकिन लीपापोती करके बनाए गए इस धारावाहिक को दर्शकों ने खास पसंद नहीं किया। गिरी हुई टीआरपी की वजह से यह धारावाहिक इतनी जल्दी बंद हो गया। शो में बजरंग बली की माता अंजना का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री स्नेहा वाघ ने सितंबर के महीने में ही बता दिया था कि यह शो 9 अक्तूबर को बंद हो जाएगा।

ये जादू है जिन्न का

टीआरपी कुछ खास नहीं और स्पेशल इफेक्ट्स और वीएफएक्स में खर्चा मोटा होने की वजह से धारावाहिक ‘ये जादू है जिन्न का’ के निर्माताओं ने इसे नवंबर के महीने में ही बंद करने का फैसला कर लिया है। यह शो पिछले साल अक्तूबर में टीवी पर प्रसारित होना शुरू हुआ था और तब से इसे दर्शकों का खूब प्यार मिलता रहा। लॉकडाउन के बाद विक्रम सिंह चौहान, श्रुति शर्मा और अदिति शर्मा का यह शो लोगों को कुछ खास पसंद नहीं आ रहा था। इसलिए, टीआरपी गिरने लगी। अब इस शो की निर्माता गुल खान ने टीवी पर इस धारावाहिक को एक नए धारावाहिक ‘इमली’ से बदलने का फैसला कर लिया है।

प्यार की लुका छुपी

धारावाहिक ‘प्यार की लुका छुपी’ भी टीवी पर बहुत ज्यादा पुराना नहीं रहा। पिछले साल दिसंबर में ही शुरू हुआ यह धारावाहिक 6 सितंबर को ही टीवी को अलविदा कह गया। इस शो के कलाकार इसके अचानक बंद होने से बहुत दुखी हुए। मुख्य अभिनेता का किरदार निभाने वाले राहुल शर्मा ने बताया, ‘मुझे इसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी। लोग इसको पसंद कर रहे थे और अच्छी प्रतिक्रियाएं भी मिल रही थीं। लेकिन, सब कुछ हमारे हाथ में नहीं होता। चैनल और निर्माताओं ने मिलकर इसके बंद होने का फैसला किया। उन्हें लगा कि इस शो से बात नहीं बन रही है। उनका सोचना भी ठीक है लेकिन एक अभिनेता होने के नाते हम तो असहाय हैं।’

कसौटी जिंदगी की 2

सिर्फ नए शो ही नहीं, बल्कि वर्ष 2018 से चल रहा लोकप्रिय धारावाहिक ‘कसौटी जिंदगी की 2’ भी लॉकडाउन खत्म होने के बाद अक्तूबर में ही दम तोड़ गया। शो में मुख्य भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री एरिका फर्नांडिस ने बताया, ‘हर अच्छी चीज का अंत एक दिन होता ही है। धारावाहिकों का भी कुछ वैसा ही है। एक नया शो शुरू होने की वजह से पुराने शो को अपने अंत की ओर बढ़ना ही पड़ता है। हम तो सिर्फ कलाकार हैं। शो की कहानी पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं होता। यह सब चैनल और निर्माता करते हैं।’ लॉकडाउन के बाद इस धारावाहिक की टीआरपी भी गड़बड़ होने लगी थी।

पवित्र भाग्य

इसी साल लॉकडाउन से पहले मार्च में शुरू हुआ एकता कपूर का धारावाहिक ‘पवित्र भाग्य’ लॉकडाउन खत्म होने के बाद अक्तूबर में ही टीवी को अलविदा कह गया। शो में मुख्य भूमिका निभाने वाले अभिनेता कुणाल जयसिंह ने कहा, ‘मुझे इस शो के अचानक बंद होने से कोई शिकायत नहीं है। यह सब किस्मत का खेल है। मुझे लगता है कि जब कोई चीज खत्म होती है तो उसके बाद नए रास्ते खुलते हैं। जैसे हर रात के बाद एक खूबसूरत सुबह होती है। पवित्र भाग्य की टीम के साथ हमारे शुरुआत से लेकर अंत तक दिन काफी अच्छे गुजरे हैं। अगर मौका मिला तो हम साथ में फिर से कभी काम करेंगे।’

इश्क सुभान अल्लाह

मार्च 2018 से भलीभांति चले आ रहे धारावाहिक ‘इश्क सुभान अल्लाह’ ने भी लॉकडाउन के बाद ही बुरे दिन देखे। 2 अक्तूबर को इस धारावाहिक का अंतिम एपिसोड टीवी पर प्रसारित हुआ। लॉकडाउन से पहले तक तो इस शो को दर्शकों का खूब प्यार मिलता रहा लेकिन बंदी के बाद दर्शक इस शो से ऊब गए। अपने कामकाज में दर्शक इतना व्यस्त हो गए कि उन्होंने धीरे धीरे देखना ही बंद कर दिया कि कबीर और जारा की जिंदगी में आखिर क्या चल रहा है? अंत में निर्माताओं ने फैसला लिया कि कबीर और जारा की शादी कराई जाए और शो को खत्म किया जाए। इस शो में अदनान खान और ईशा सिंह मुख्य भूमिकाओं में रहे।

मेरे डैड की दुल्हन

श्वेता तिवारी और वरुण बडोला के धारावाहिक ‘मेरे डैड की दुल्हन’ ने टीवी पर खूब दर्शक जुटाए। पिछले साल नवंबर में ही शुरू हुए इस धारावाहिक का अंतिम एपिसोड इस साल नवंबर में ही प्रसारित होने जा रहा है। इसके निर्माताओं और कलाकारों का मानना है कि हर शो की एक मियाद होती है जिसके बाद उसे बंद होना ही होता है। किसी शो को बिना मतलब के लगातार खींचने से कोई फायदा नहीं। शो की कहानी पूरी हो गई, डैड को उनकी दुल्हन मिल गई। इसके आगे अब शीर्षक के हिसाब से बचा ही क्या? शो को दर्शकों से खूब प्यार मिला और इसकी विदाई भी खुशी खुशी हो रही है। श्वेता तिवारी और वरुण बडोला ने भी कहा है कि वह इसके बंद होने से बिल्कुल भी निराश नहीं हैं। कहानी को बहुत ही अच्छे मोड़ पर छोड़ा गया है।

 

Leave a Reply