Wednesday , August 10 2022

Dussehra 2022: जानिए विजयदशमी का शुभ मुहूर्त और महत्व

नई दिल्ली: बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाने वाला पर्व दशहरा इस साल अक्टूबर की शुरुआत में ही पड़ रहा है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, दशहरा या विजयादशमी का पर्व आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, दशहरा के दिन ही भगवान श्री राम ने लंकापति रावण का वध किया था। किसी कारण हर साल प्रतीक के रूप में रावण के अलावा कुंभकर्ण और पुत्र मेघनाद के पुतलों का दहन किया जाता है। देशभर में इस पर्व को बड़े ही धूमधाम तरीके से मनाया जाता है। इसके साथ ही इस दिन के साथ दुर्गा पूजा (शारदीय नवरात्रि) का भी समापन हो जाता है। आइए जानते हैं कि दशहरा की तिथि, पूजा का मुहूर्त और महत्व के बारे में।
दशहरा 2022 की तिथि और शुभ मुहूर्त

विजयदशमी (दशहरा)- 5 अक्टूबर 2022, बुधवार

दशमी तिथि प्रारम्भ – 4 अक्टूबर 2022 को दोपहर 2 बजकर 20 मिनट तक

दशमी तिथि समाप्त – 5 अक्टूबर 2022 दोपहर 12 बजे तक

श्रवण नक्षत्र प्रारम्भ – 4 अक्टूबर 2022 को रात 10 बजकर 51 मिनट तक

श्रवण नक्षत्र समाप्त – 5 अक्टूबर 2022 को रात 09 बजकर 15 मिनट तक
विजय मुहूर्त – 5 अक्टूबर दोपहर 02 बजकर 13 मिनट से लेकर 2 बजकर 54 मिनट तक

अमृत काल- 5 अक्टूबर सुबह 11 बजकर 33 से लेकर दोपहर 1 बजकर 2 मिनट तक

दुर्मुहूर्त- 5 अक्टूबर सुबह 11 बजकर 51 मिनट से लेकर 12 बजकर 38 मिनट तक।

दशहरा का महत्व

पौराणिक कथाओं के अनुसार दशहरा मनाने के पीछे दो कथाएं सबसे ज्यादा प्रचलित है। पहली कथा के अनुसार, आश्विन शुक्ल दशमी को भगवान श्री राम ने रावण का वध करके लंका में विजय प्राप्त की। इसी कारण इस दिन को विजयादशमी या दशहरा के रूप में मनाया जाता है। वहीं दूसरी कथा के अनुसार, मां दुर्गा ने महिषासुर के साथ 10 दिनों तक भीषण संग्राम किया और आश्विन शुक्ल दशमी को उसका वध कर दिया