Wednesday , September 28 2022

यूक्रेन और रूस के बीच भीषण जंग जारी

रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि मारियुपोल शहर में यूक्रेन के कब्जे वाले आखिरी क्षेत्र में छुपे उसके करीब एक हजार सैनिक वहां से चले गए हैं। रूस के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता मेजर जनरल इगोर कोनशेनकोव ने बुधवार को कहा कि पिछले 24 घंटे के दौरान मारियुपोल के अज़ोवस्तल इस्पात संयंत्र में यूक्रेन के 694 सैनिकों ने आत्म समर्पण किया है। इसके बाद इस हफ्ते संयंत्र को छोड़ने वाले यूक्रेन के सैनिकों की संख्या 959 हो गई है। रूसी रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि यूक्रेन के 51 जख्मी सैनिकों समेत 265 सैनिकों ने आत्म समर्पण किया है। यूक्रेन के अधिकारियों ने नई संख्या की पुष्टि नहीं की है। कोनशेनकोव ने कहा कि पिछले 24 घंटे के दौरान 694 सैनिकों ने समर्पण किया है जिनमें 29 जख्मी हैं।

मारियुपोल में अंतिम ठिकाने की रक्षा करने वाले यूक्रेन के सैकड़ों सैनिकों को रूस समर्थित अलगाववादियों द्वारा नियंत्रित क्षेत्रों में ले जाया गया है और अधिकारी बाकियों को भी मंगलवार को निकालने में लगे रहे। संयंत्र से सैनिकों की निकासी के साथ शहर में यह घेराबंदी की समाप्ति का संकेत हो सकता है जो यूक्रेन के प्रतिरोध का प्रतीक बन चुका है। रूस ने अभियान को सामूहिक आत्मसमर्पण कहा है। वहीं, यूक्रेन ने इस शब्द का इस्तेमाल नहीं किया लेकिन कहा कि उसका अभियान पूरा हो चुका है। शहर में यूक्रेन के सैनिकों के अंतिम गढ़ एक इस्पात संयंत्र से सोमवार को 260 से ज्यादा सैनिकों को निकाला गया जिनमें से अधिकतर घायल थे। दोनों पक्षों के अधिकारियों ने कहा कि इन सैनिकों को अलगाववादियों के कब्जे वाले दो शहरों में ले जाया गया है। कुछ सैनिक अब भी अजोवस्तल इस्पात संयंत्र में हैं जिनकी संख्या के बारे में पता नहीं है। यह संयंत्र 11 वर्ग किलोमीटर से भी ज्यादा क्षेत्र में फैला हुआ है।

अब इस संयंत्र को छोड़कर समूचे मारियुपोल शहर पर रूसी सैनिकों का कब्जा हो चुका है। संयंत्र पर पूर्ण कब्जा एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर होगा। यह रूस को युद्ध की अब तक की सबसे बड़ी जीत दिलाएगा और पूर्वी यूक्रेन के औद्योगिक गढ़ में कहीं और आक्रामक कार्रवाई के लिए सैन्य बलों को पहुंचाने में मदद कर सकता है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा, ‘‘यूक्रेन को जिंदा रहने के लिए अपने नायकों की जरूरत है। यह हमारा सिद्धांत है।’’ उन्होंने कहा कि गोलाबारी में तबाह हो चुके संयंत्र से निकासी का काम जारी है। जेलेंस्की ने कहा, ‘‘उनमें से कई सैनिक गंभीर रूप से घायल हैं। उन्हें चिकित्सा मदद दी जा रही है। उन्हें घर लाने का काम जारी है और इसके लिए संवेदनशीलता एवं समय की जरूरत है।’’ यूक्रेन की उप रक्षा मंत्री हन्ना मलियार ने कहा कि 260 से अधिक सैनिकों को संयंत्र से निकाला गया जिनमें से 53 गंभीर रूप से घायल थे। वहीं, रूस के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेनकोव ने कहा कि 265 सैनिक निकाले गए जिनमें से 51 गंभीर रूप से घायल थे।

रूस ने कहा है कि उसने फिनलैंड के दो राजनयिकों को निष्कासित करने का फैसला किया है। स्वीडन ने उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) में शामिल होने के अनुरोध पर हस्ताक्षर किये है और फिनलैंड की संसद ने भी अनुमोदन किया है। रूसी विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को फिनलैंड के दो राजनयिकों के निष्कासन को पिछले महीने फिनलैंड में दो रूसियों को निष्कासित करने की प्रतिक्रिया बताया है। रूस ने कहा कि वह बाल्टिक तटीय देशों की परिषद से हट रहा है। ग्यारह देशों के इस समूह में फिनलैंड और स्वीडन प्रमुख सदस्य हैं।