Monday , August 15 2022

लखनऊ में गैंगवार: मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या

लखनऊ: राजधानी लखनऊ के विभूतिखंड इलाके में बीते दिन बुधवार रात करीब 9 बजे दो बाहुबली गुटों के बीच गैंगवार हुआ. इस दौरान मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई. अजीत सिंह को बाहुबली मुख्तार अंसारी का करीबी बताया जा रहा है. मृतक अजीत सिंह मऊ के मोहम्मदाबाद गोहाना के ब्लॉक प्रमुख रहे हैं.

 बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसानी शुरू कर दी

आपको बता दे कि मामला विभूतिखंड में कठौता पुलिस चौकी के सामने कठौता चौराहे के पास का है. यहां काली स्कॉर्पियो गाड़ी से अजीत सिंह अपने साथी मोहर सिंह के साथ पहुंचे थे. दोनों गाड़ी से उतरकर थोड़ी दूर चले ही थे कि दो बदमाशों ने ताबड़तोड़ उनपर गोलियां बरसानी शुरू कर दी. जवाब में अजीत ने भी फायरिंग की. इस दौरान अजीत के सिर में गोली लगने से मौके पर ही उनकी मौत हो गई. मोहर सिंह और प्रकाश के पैर में गोली लगी और दोनों लहूलुहान होकर जमीन पर गिर पड़े. अजीत मूलरूप से मोहना मोहम्मदाबाद, मऊ के रहने वाले थे और आजमगढ़ में हुई पूर्व विधायक सीपू सिंह की हत्या में गवाह थे. मृतक अजीत बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी थे.

पुलिस ने बताया कि अजीत पर हत्या के पांच मुकदमे दर्ज हैं. अजीत के खिलाफ मऊ पुलिस ने 30 दिसंबर को जिलाबदर की कार्रवाई कराई थी. वह यहां गोमतीनगर विस्तार स्थित एक अपार्टमेंट में रह रहा था. अजीत ने अपनी एक करीबी महिला मनभावती देवी को गोहना मोहम्मदाबाद से ब्लॉक प्रमुख बनवाया था. पूर्व में अजीत की पत्नी रानू सिंह भी ब्लॉक प्रमुख रही हैं.

गोलियों की तड़तड़ाहट से पूरा इलाका गूंज उठा

इस गैंगवार में करीब 25 से 30 राउंड गोलियां चलीं. गोलियों की तड़तड़ाहट से पूरा इलाका गूंज उठा. चौराहे पर भगदड़ मच गई और दुकानदार दुकानें बंद कर भागने लगे. सीसी फुटेज में पुलिस को तीन बदमाश बाइक से भागते दिखे हैं. हालांकि, बदमाशों की संख्या चार थी. पुलिस आयुक्त का कहना है कि अभी तक तीन बदमाशों के वारदात को अंजाम देने की पुष्टि हुई है. आसपास के अन्य सीसी कैमरे जांचे जा रहे हैं. जल्द ही अपराधियों को पकड़ लिया जायेगा.

Leave a Reply