Tuesday , July 5 2022

इस पार्टी के टिकट से चुनाव लड़ सकते हैं गुप्तेश्वर पांडेय, इस तरह दिए संकेत

पटना: बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के समय से पहले वीआरएस के बाद से ही उनके सक्रिय राजनीति में आने की बात चल रही थी। इसी बीच पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय शनिवार को दोपहर 12 बजे अचानक पटना के वीरचंद पटेल पथ स्थित जदयू मुख्यालय पहुंच गए। पांडेय अचानक जदयू दफ्तर पहुंचे देख वहां मीडियावालों का हुजूम लग गया। वहां कुछ देर में मुख्यमंत्री और जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार भी पहुंचने वाले थे। सभी यह कयास लगाने लगे कि गुप्तेश्वर पांडेय जदयू में शामिल होने जा रहे हैं और नीतीश कुमार ही उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाएंगे।

नीतीश को धन्यवाद देने के लिए पहुंचे पार्टी ऑफिस

हालांकि यह बात कयास ही साबित हुई। क्योंकि मुख्यमंत्री के जदयू दफ्तर पहुंचने के कुछ ही देर बाद गुप्तेश्वर पांडेय वहां से निकल गए। निकलने से पहले मीडियावालों से उन्होंने यह कहा कि वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को धन्यवाद देने आए थे। धन्यवाद इस बात का कि उन्होंने मुझे पद पर रहते हुए पूरी आजादी से कार्य करने का मौका दिया।

राजनीति में शामिल होने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बार-बार यही दोहराया कि वे अभी किसी पार्टी में शामिल होने नहीं जा रहे हैं। उन्होंने अभी चुनाव लड़ने के बारे में कोई फैसला नहीं लिया है। वे बस मुख्यमंत्री से औपचारिक मुलाकात करने आए थे। इतना कहने के बाद ही वे पार्टी दफ्तर से निकल गए। लेकिन राजनीतिक गलियारों में यह कहा जा रहा है कि गुप्तेश्वर पांडेय नीतीश की पार्टी से चुनाव लड़ सकतें हैं और यह मुलाकात भी उसी का एक हिस्सा है।

बता दें कि 22 सितंबर को डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस ले लिया था। तभी से उनके राजनीति में जाने और विधानसभा या लोकसभा का उपचुनाव लड़ने के कयास लगाए जा रहे थे। इस बात की जबरदस्त चर्चा थी कि वे वाल्मीकिनगर लोकसभा क्षेत्र से उपचुनाव लड़ सकते हैं। इससे पहले भी 2009 में उन्होंने इस्तीफा देकर चुनाव लड़ने का फैसला किया था। लेकिन कहीं से टिकट न मिल पाने के कारण चुनाव नहीं लड़ पाए और अपना इस्तीफा वापस ले लिया।

 

Leave a Reply