Thursday , October 6 2022
ज्ञानवापी मस्जिद मामला : अंजुमन इंतजामिया मसाजिद के प्रार्थना पत्र पर बुधवार को होगी सुनवाई
ज्ञानवापी मस्जिद मामला : अंजुमन इंतजामिया मसाजिद के प्रार्थना पत्र पर बुधवार को होगी सुनवाई

ज्ञानवापी मस्जिद मामला : अंजुमन इंतजामिया मसाजिद के प्रार्थना पत्र पर बुधवार को होगी सुनवाई

वाराणसी। ज्ञानवापी मस्जिद मामले में आज मंगलवार को अदालत में सुनवाई की जानी है। कमिश्नर बदलने की याचिका को लेकर आज जहां सुनवाई वहीं ज्ञानवापी मामले की अगली सुनवाई को लेकर भी परिसर में सुबह से ही गहमागहमी का रुख बना हुआ है। एडवोकेट कमिश्नर को बदले जाने को लेकर जहां सुनवाई होनी है वहीं अब तक हुए सर्वे की रिपोर्ट भी सौंपी जाएगी। इस मामले को लेकर अदालत की ओर सभी का रुख बना हुआ है। जबकि वीडियो रिकार्डिंग के दौरान सं‍कलित साक्ष्‍य भी सौंपे जाने की तैयारी है। हालांकि, सुनवाई दोपहर दो बजे शुरू होगी लेकिन सुबह से ही सभी पक्ष तैयारियों में जुटे हुए नजर आए। दोपहर दो बजे तय समय पर अदालत में सुनवाई शुरू हुई। ज्ञानवापी परिसर की कमीशन की कार्यवाही पर सुनवाई शाम चार बजे तक जारी रही। इस दौरान सिविल जज (सीनियर डिवीजन) रवि कुमार दिवाकर की अदालत ने अंजुमन इंतजामिया मसाजिद की ओर से दाखिल प्रार्थना पत्र अग्रिम सुनवाई के लिए 11 मई की तिथि मुकर्रर कर दी है। देश भर में चर्चा का विषय बने ज्ञानवापी परिसर में कमीशन की कार्यवाही कर रहे एडवोकेट कमिश्नर को बदलने के लिए अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी की तरफ से सिविल जज (सीनियर डिवीजन) रवि कुमार दिवाकर की अदालत में दाखिल प्रार्थना पत्र पर सोमवार को सुनवाई हुई थी। लगभग एक घंटे तक चली सुनवाई के दौरान वादी पक्ष के अधिवक्ताओं और एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा ने अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी के अधिवक्ताओं के आरोपों को निराधार बताया है। वहीं पूर्व महंत कुलपति तिवारी की ओर से 1992 के पहले परिसर में बाबा विश्‍वनाथ के शिवलिंग को देखे जाने की बात कहकर चर्चाओं को और गति दी है। दूसरी ओर वादी पक्ष ने कमीशन की कार्यवाही सुनिश्चित कराने के लिए शासन -प्रशासन को निर्देश देने की अपील की। साथ ही तहखाना का ताला खोलकर कमीशन की कार्यवाही कराने के लिए जिला प्रशासन को आदेश देने की मांग की। वादी पक्ष की इस अपील पर अपना पक्ष रखने के लिए अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी के अधिवक्ताओं ने समय मांगा। अदालत ने सुनवाई को जारी रखते हुए दस मई की तिथि मुकर्रर कर दी। हालांकि, ज्ञानवापी परिसर प्रकरण में कमीशन की कार्यवाही पर सुनवाई के लिए दस मई की तिथि पहले से ही निर्धारित थी। अब इस मामले को लेकर सभी पक्षाें की ओर से सुनवाई को लेकर मंथन किया जाना है। दरअसल ज्ञानवापी मस्जिद के भीतर मौजूद तहखाने का सर्वे करने को लेकर भी हिंदू पक्ष ने अदालत में दरवाजा खटखटाया है।