तूफान ‘ताउते’ विकराल चक्रवाती तूफान में बदला

चक्रवात को लेकर अलर्ट भी जारी कर दिया गया

0 6

पणजी। पांच राज्यों में चक्रवाती तूफान ताउते अब कहर बरपाने लगा है। इस चक्रवात को लेकर अलर्ट भी जारी कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक, चक्रवात ताउते तेज होकर काफी गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप ले रहा है और यह गुजरात के तटीय इलाकों की तरफ बढ़ रहा है। मौसम विभाग ने बताया कि बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान ताउते अगले 24 घंटे में और तेज हो सकता है और यह गुजरात के तट की ओर पहुंच सकता है। गुजरात के सूरत में तूफान ने शहर को प्रभावित करना शुरू कर दिया है। रविवार को यहां धूल भरी तेज हवाएं चलीं। इस बीच, गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को ताउते साइक्लोन पर मीटिंग की, जिसमें महाराष्ट्र, गुजरात के सीएम और दादर नागर हवेली, दमन और दीव के प्रशासक भी मौजूद रहे। गृहमंत्री ने इस बात पर जोर दिया है कि साइक्लोन में कोरोना से पीड़ित लोगों के ऊपर किसी तरह का प्रभाव ना पड़े इसपर खास तौर से ध्यान देना होगा। वहीं, मुंबई में भारी बारिश के बाद सड़कों पर जलभराव हुआ।

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि चक्रवात को लेकर महाराष्ट्र सरकार पिछले 3 दिनों से सतर्क है। राज्य आपदा प्रबंधन 24 घंटे काम कर रहा है। सारे जिलों को सतर्क रहने का आदेश दिया गया है। लगातार बारिश हो रही है और तेज हवाएं चल रही हैं। चक्रवात की वजह से मुंबई में बीकेसी के कोविड सेंटर को अस्थाई रूप से बंद कर दिया गया है। 193 मरीजों को, जिनमें 73 मरीज आईसीयू में थे, विभिन्न अस्पतालों में शिफ्ट किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से क्रवाती तूफान ताउते संबंधित स्थिति पर बातचीत की।

चक्रवाती तूफान ताउते के चलते पणजी में तेज हवाएं चलीं। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री से राज्य में तौकते चक्रवात के प्रभाव और तबाही के बारे में बात की। उन्होंने चक्रवात से हुए नुकसान के बारे में पूछा और राज्य को सामान्य स्थिति में लाने के लिए सभी केंद्रीय एजेंसियों के मदद का आश्वासन दिया।

अहमदाबाद मौसम विभाग की वैज्ञानिक मनोरमा मोहंती ने कहा कि चक्रवात ताउते अभी दीव से 220 किलोमीटर दूर है। शाम तक गुजरात तट पर आ जाएगा और रात को दीव से 20 किलोमीटर पूर्व होकर गुजरात तट पार करेगा। हवा की रफ्तार 160-170 किलोमीटर प्रति घंटे रहेगी। गिर समोनाथ, जूनागढ़, अमरेली, भावनगर पर ज्यादा प्रभाव पडे़गा। वलसाड़ और नवसारी में भी भारी बारिश होने की संभावना है। मछुआरों को जाने से मना किया गया है। सभी जिलों में बारिश रहेगी।

भारत मौसम विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को बताया कि तूफान ताउते विकराल चक्रवाती तूफान में बदल गया है। आईएमडी ने बताया कि तूफान ने सोमवार को तड़के विकराल रूप धारण कर लिया। विभाग ने पहले इसके विकराल रूप लेने का कोई अनुमान नहीं लगाया था।

आईएमडी के चक्रवात चेतावनी विभाग के अनुसार, इसका उच्चारण ताउते है। पूर्व मध्य अरब सागर के ऊपर बना अत्यधिक भीषण चक्रवाती तूफान ताउते पिछले छह घंटों के दौरान लगभग 20 किमी प्रति घंटे की गति से उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ा, और अब यह विकराल चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है।इसके कारण अब 180-190 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं, जिसके 210 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तक चलने का अनुमान है।

आईएमडी ने हालांकि कहा कि गुजरात तट पर पहुंचने पर इसकी विकरालता कम होगी। आईएमडी के चक्रवात चेतावनी संभाग ने कहा कि इसके आज शाम गुजरात तट पर पहुंचने का अनुमान है।

उन्होंने कहा कि इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 17 मई की शाम को गुजरात तट पर पहुंचने और 17 मई की रात (आठ से 11 बजे के बीच) पोरबंदर और महुवा (भावनगर जिला) के बीच गुजरात तट को पार करने का अनुमान है। इस दौरान 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवाओं के 185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने का अनुमान है।

आईएमडी की चेतावनी के बाद, गुजारात में निम्न तटीय इलाकों से करीब डेढ़ लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है और एनडीआरएफ तथा एसडीआरएफ के 54 दल वहां तैनात हैं। ताउते के राज्य के तट पर सोमवार शाम पहुंचने और मंगलवार को यहां से आगे बढ़ने का अनुमान है।
आईएमडी ने सोमवार सुबह ट्वीट किया कि चक्रवाती तूफान ताउते ने और विकराल रूप ले लिया है और यह विकराल चक्रवाती तूफान (ईएससीएस) में तब्दील हो गया है. पूर्वी-मध्य अरब सागर पर चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ विकराल चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया। गुजरात और दीव तटों क लिए चक्रवात संबंधी और चेतावनी जारी की गई है।

निजी कम्पनी स्काईमेट ने इसके गुजरात में महुवा और पोरबंदर क्षेत्र के बीच कहीं पहुंचने का अनुमान लगाया है, जो दीव के नजदीक है। उसने कहा कि आसपास के 100 किलोमीटर के क्षेत्र में इसका प्रभाव दिख सकता है। गुजरात के अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकज कुमार ने बताया कि करीब 25,000 लोगों को पहले ही सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है। वहीं, मुंबई में 24 नगर निकाय वार्ड में संवदेनशील इलाकों के लोगों को ठहराने के लिए पांच अस्थायी आश्रय स्थल बनाए गए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.