Thursday , July 7 2022

ICMR की चेतावनी: चीन और वियतनाम में पाया जाने वाला कैट क्यू वायरस फैला सकता है भारत में भी संक्रमण

लखनऊ: देश भर में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने एक और वायरस का खतरा जताया है. ICMR के मुताबिक, चीन और वियतनाम में पाया जाने वाला कैट क्यू वायरस भारत में भी संक्रमण फैला सकता है. देश में 883 लोगों के सीरम सैम्पल की जांच की गई, इसमें दो लोगों में कैट क्यू वायरस के खिलाफ काम करने वाली एंटीबॉडीज मिली हैं. एंटीबॉडीज शरीर में तभी मिलती हैं जब उससे जुड़े वायरस का संक्रमण हुआ हो.

कैट क्यू वायरस क्यूलेक्स मच्छरों और सुअरों से फैलता है

ICMR के संस्थान नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के मुताबिक, इस वायरस के सबसे ज्यादा मामले चीन और वियतनाम में देखे गए हैं. यह वायरस क्यूलेक्स मच्छरों और सुअरों से फैलता है. देश में 2014 से 2017 के बीच सीरम कलेक्ट किया गया था. इसकी जांच के दौरान 2 लोगों में कैट क्यू वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज मिलीं इससे एक बात साफ है. कि इनमें इस वायरस का संक्रमण हुआ है. हालांकि, अब तक भारत में यह वायरस किसी भी इंसान या जानवरों में नहीं मिला है.

कर्नाटक से जुड़े है दोनों ही मामले

जिन दो लोगों में कैट क्यू वायरस की एंटीबॉडी मिली हैं, वो कर्नाटक से हैं. ICMR के मुताबिक, इंसानों और सुअरों के सीरम सैंपल्स की जांच होनी चाहिए ताकि पता चल सके कि कहीं यह वायरस हमारे बीच पहले से ही मौजूद तो नहीं है. भारत में क्यूलेक्स मच्छर की प्रजाति का विस्तार होने से इस वायरस का संक्रमण फैलने की आशंका जताई जा रही है.

खतरनाक है कैट क्यू वायरस

यह खासतौर पर चीन और वियतनाम में क्यूलेक्स मच्छरों और सुअरों में पाया जाता है. यह वायरस खतरनाक है या नहीं, अब तक स्पष्ट नहीं हो पाया है. इसका संक्रमण इंसेफेलाइटिस और मेनिनजाइटिस जैसे रोगों की वजह बन सकता है. मरीजों में बुखार, सिरदर्द जैसे लक्षण दिख सकते हैं. चीन के सुअरों में बड़े पैमाने पर इसके खिलाफ एंटीबॉडीज मिल चुकी हैं. यह इस बात का संकेत है कि वहां वायरस फैल रहा है. इसमें मच्छरों और सुअरों के जरिए दूसरे जानवरों में फैलने की भी क्षमता है.

Leave a Reply