Thursday , July 7 2022

बाइडेन-मोदी सरकार की दोस्ती से टेंशन में इमरान

पाकिस्तान की सत्ता से सत्ताबदर होने के बाद भी इमरान खान लगातार मीडिया की लाइमलाइट में बने हुए हैं। कभी सड़कों पर आंदोलन के जरिये तो कभी अपने बयाने के लिए। लेकिन इसके साथ ही इमरान कुर्सी पर रहे या हुकूमत से बाहर पीएम मोदी और भारत हालिया कुछ महीनों से उनका पसंदीदा टॉपिक बना हुआ है। कभी वो हिन्दुस्तान को खुद्दार मुल्क बताते हैं तो कभी पीएम मोदी की विदेश नीति के गुण गाते हैं। वहीं अमेरिका भी इमरान के निशाने पर लगातार रहता है। अब पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इमरान खान इन दिनों भारत और अमेरिका कि दोस्ती को लेकर परेशान हैं। 

पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान भारत-अमेरिका के बीच बढ़ती दोस्ती से टेंशन में आ गए हैं। उन्होंने दावा किया कि बाइडेन प्रशासन एक मजबूत भारत चाहता है जो चीन का मुकाबला करे। इमरान ने कहा कि वाशिंगटन चाहता है कि इस्लामाबाद इजरायल को मान्यता दे, कश्मीर पर अपना दावा छोड़ दे और भारत के अधीन काम करे। पूर्व प्रधानमंत्री ने दावा किया कि अमेरिका अपने हितों को पूरा करने के लिए पाकिस्तान को एक टिशू पेपर के रूप में इस्तेमाल करना चाहता है। इसके साथ ही इमरान खान ने सत्तारूढ़ शरीफ सरकार को कथित तौर पर आर्थिक मदद के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के सामने झुकने के लिए फटकार लगाई।

इमरान खान ने कहा कि अमेरिका का एजेंडा ही यही है कि इजरायल को मान्यता दो। हिन्दुस्तान को लोकल थानेदार के रूप में स्वीकार करो। कश्मीर को भूल जाओ। इमरान ने कहा कि अमेरिका चाहता है कि हिन्दुस्तान तगड़ा हो ताकि वो चीन का सामना करे। तो हमें वो ताहते हैं कि जो हिन्दुस्तान चाहे उसे हम सैल्यूट करें।