Saturday , October 1 2022

संत कबीरनगर: मामली विवाद में दबंगों ने भरे चौराहे पर जीप से कुचल कर की युवक की हत्या

संत कबीरनगर: उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर जिले के खलीलाबाद कोतवाली क्षेत्र के कुरथिया चौराहे पर आधा दर्जन दबंगों ने जितवापुर निवासी जगदीश पुत्र सजनलाल से मामूली विवाद पर पहले मारापीटा। इसके बाद दबंगों ने उनके ऊपर हंटर जीप चढ़ाकर कुचल दिया। जगदीश को बचाने आए कुरथिया गांव के अनिल पर भी उन्होंने जीप चढ़ा दी, जिससे उनका भी पैर टूट गया। दबंगों का खौफ इतना था कि दोनों वहां घंटे भर पड़े रहे लेकिन कोई उन्हें उठाने नहीं पहुंचा। बाद में गांव वालों को पता चला तो बड़ी संख्या में लोग पहुंचे और दोनों को अस्पताल पहुंचाया।

ग्रामीणों ने पुलिस चौकी पर किया हंगामा

गुरुवार की रात हुई इस घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने क्षेत्र के कांटे चौकी पहुंच कर हंगामा किया। ग्रामीणों का आरोप है कि दोनों दबंग भाइयों का पिता चौकी का दलाल है। यही कारण है कि इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। रात दस बजे चिकित्सकों ने जगदीश को मृत घोषित कर दिया। गुरुवार को कोतवाली पुलिस ने विकास चौधरी, आलोक चौधरी और सद्दाम हुसैन को नामजद करते हुए आठ अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज किया।

दस दिन पहले हुआ था बवाल

मृतक जगदीश के भतीजे मनीष, अरविंद और सुनील ने बताया कि उनकी बहन संगीता की शादी बस्ती जनपद के मुंडेरवा थाना क्षेत्र के कांची डड़वा गांव में हुई है। उसका पति बृजेश उसे प्रताड़ित करता है। 10 दिन पहले सुनील और अरविंद बहन को लेने गए थे। तब बहनोई बृजेश ने बहन के साथ उन दोनों को भी मारापीटा था। बहन अपने मायके जितवापुर आ गई थी। बीते मंगलवार को बृजेश अपने मित्र खलीलाबाद कोतवाली क्षेत्र के चकिया निवासी विकास और आलोक चौधरी पुत्रगण रामजी चौधरी और टेमा रहमत के पुत्र सद्दाम मशहूर आलम समेत दर्जनभर युवकों के साथ अपनी पत्नी को विदा कराने गया था। तब ग्रामीणों ने उन्हें वहां से भगा दिया था। इसी बात से दबंग नाराज थे और ग्रामीणों को मारने के लिए ढूंढ रहे थे।

ग्रामीणों ने लगाया पुलिस पर गंभीर आरोप

जितवापुर के राजपाल, श्यामसुंदर, जोगेंद्र, अमरपाल चौधरी, राघवेंद्र प्रताप, रामकरन, अशोक प्रताप, रियाज अहमद खान, अर्जुन, पवन आदि का आरोप है कि कांटे चौकी की पुलिस की शह पर ही मनबढ़ों ने हत्या को अंजाम दिया है। आरोपित विकास और आलोक का पिता रामजी चौधरी चौकी का दलाल है। बिना उसकी इजाजत के कोई मामला दर्ज नहीं होता। गांव के लोगों ने पुलिस को बताया था कि मनबढ़ गांव के लोगों को मारने की धमकी दे रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

क्या कहा पुलिस ने

घटना के विषय में जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक ब्रजेश सिंह ने कहा कि, घटना में शामिल नामजद तीन आरोपितों के साथ आठ अज्ञात लोगों पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस अभियुक्तों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। कांटे पुलिस की भूमिका की भी जांच होगी।

 

Leave a Reply