Tuesday , July 5 2022

हाथरस में आप नेता संजय सिंह पर फेंकी गई स्याही, महिला आयोग ने भी ली परिवार की सुध

हाथरस: आम आदमी से राजसभा संसाद और उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष संजय सिंह पर हाथरस जाते हुए स्याही फेंकी गई। संजय सिंह पार्टी प्रतिनिधिमंडल के साथ सोमवार को हाथरस में पीड़ित परिवार से मिलने गये थे। यह घटना तब हुई जब संजय पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद वापसी के समय काली स्याही फेंकी गई और पीएफआइ के दलाल कहकर जमकर नारेबाजी की गई। इसके बाद पुलिस ने बल का प्रयोग कर इनको वहां से निकाला।

आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल में राज्यसभा सदस्य संजय सिंह के साथ दिल्ली सरकार के कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम, विधायक राखी बिड़लान, पंजाब में आम आदमी पार्टी विधायक दल के नेता हरपाल सिंह चीमा के साथ दिल्ली के विधायक रोहित म्हरौलिया व पवन शर्मा भी थे। सभी नेताओं ने बूलगढ़ी गांव जाकर पीड़ित परिवार से भेंट की। इसके साथ ही इन सभी ने पीडि़त परिवार को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष का भी आश्वासन दिया। आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने पीडि़त परिवार को राशन तथा सब्जी भी प्रदान की। सांसद संजय सिंह ने कहा कि सरकार का बयान झूठा और हास्यास्पद है। सरकार ने जनता को मुद्दों को भटकाने की कोशिश है। हमारी तो यही मांग है कि पीड़ित परिवार को न्याय दिलाएं। इसके साथ ही पीड़ित परिवार को सुरक्षा दीजिए।

हाथरस में संजय सिंह पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस बीच, एक अज्ञात शख्स ने पीएफआई के दलालों वापस जाओ का नारा लगाते हुए संजय सिंह पर स्याही फेंक दी। युवक को हिरासत में ले लिया गया है। आप कार्यकर्ताओं का आरोप है कि ये भाजपा ने कराया है। आरोपी युवक का नाम दीपक शर्मा बताया जा रहा है। आप कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू किया तो पुलिस ने बल प्रयोग कर भीड़ को तितर-बितर किया है।

संजय ने कहा सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी

हाथरस मामले की जांच के विषय में बोलते हुए संजय सिंह ने कहा कि सीबीआई की जांच सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में हो। हाथरस के बहाने यूपी में दंगे की साजिश के सवाल पर सांसद ने कहा कि जिस भाजपा का इतिहास सांप्रदायिक भेदभाव का रहा है, वो दूसरों पर आरोप लगा रहे हैं। ये बेहद हास्यास्पद है। उन्होंने डीएम का नार्को टेस्ट कराए जाने और उन्हें बर्खास्त किए जाने का मुद्दा उठाया है।

महिला आयोग ने ली परिवार की सुध

सोमवार को राष्ट्रीय महिला आयोग ने हाथरस दुष्कर्म मामले का संज्ञान लिया है। महिला आयोग की सदस्या सारिका चौधरी ने बूलगढ़ी गांव पहुंचकर पीड़ित परिवार से मुलाकात की। चौधरी ने पीड़ित परिवार से उनका दुख दर्द बांटा। सारिका ने कहा कि जो भी दोषी हैं उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए और जिलाधिकारी पर कहा कि उन्होंने बार-बार बयान बदले हैं। जिसको लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। इसकी रिपोर्ट हम सौंपेंगे। ये लोकतंत्र की पूरी तरह से हत्या है।

Leave a Reply