Monday , September 26 2022

IPL 2022। LSG की हार का दोषी कौन ?

गुजरात टाइटंस ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 57वें मुकाबले में लखनऊ सुपर जाइंट्स को 62 रनों से हरा दिया। इस मुकाबले में लखनऊ ने कई गलतियां कीं। जिनमें कैच छोड़ने से लेकर बल्लेबाजों के खराब शॉट्स शामिल हैं। क्रिकेट में साधारण सी कहावत है- कैच छूटा तो मैच छूटा और इसका पूरा नजारा गुजरात बनाम लखनऊ के मुकाबले में देखने को मिला। हालांकि लखनऊ के कप्तान केएल राहुल ने भी जिम्मेदारी के साथ मुकाबला नहीं खेला। जिसकी वजह से मिडिल ऑर्डर पर दबाव बढ़ गया और टीम दबाव में निखरने की बजाय बिखर गई और छोटे से लक्ष्य को भी हासिल नहीं कर पाई। इस मुकाबले में गुजरात के राशिद खान ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और शुभमन गिल ने कमाल की नाबाद पारी खेली। 

गुजरात ने नहीं की कोई गलती

पिछला मुकाबला अच्छी स्थिति में होने के बावजूद गंवाने वाली लखनऊ ने विरोधी टीम के खिलाफ छोटा लक्ष्य रखकर बड़ी जीत हासिल की। इस जीत के बाद कप्तान हार्दिक पांड्या ने कहा कि जिस तरह सभी ने बल्लेबाजी की, खासतौर पर शुभमन गिल ने तो मुझे महसूस हो गया था कि 144 रन बनाने के बाद हमारे पास अच्छा मौका होगा। मुझे लगता है कि उनके गेंदबाजों ने थोड़ी शॉर्ट गेंदबाजी की। फुल लेंथ की गेंदों पर अच्छे नतीजे मिल रहे थे। हमने यही बात की कि वे सिर्फ दो शॉट पर रन बना सकते हैं। गेंदबाजों ने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन किया और हमने कोई गलती नहीं की।

82 रन पर ढेर हुए राहुल के शेर

एकमात्र दीपक हुड्डा ने 27 रनों की पारी खेली। इसके अलावा किसी का भी बल्ला नहीं चला और लखनऊ महज 82 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। कप्तान केएल राहुल ने भी निराशाजनक प्रदर्शन किया और मोहम्मद शमी की गेंद पर गलत शॉट खेलते हुए विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा को आसान सा कैच थमा बैठे। लखनऊ के खिलाफ राशिद खान ने 24 रन देकर 4 विकेट झटके। जबकि यश दयाल और साई किशोर के हिस्से में 2-2 सफलताएं आईं और मोहम्मद शमी को एक विकेट मिला।

राजस्थान बनाम दिल्ली

पिछले मुकाबले में मिली हार को भुलाकर दिल्ली कैपिटल्स प्लेऑफ की दौड़ में बने रहने के लिए राजस्थान रॉयल्स को हराने के इरादे से डीवाई पाटिल स्टेडियम में उतरेगी जबकि राजस्थान जीत की लय को कायम रखना चाहेगी। दिल्ली को 11 में से 5 मुकाबलों में सफलता मिली है और वो प्वाइंट टेबल में 5वें स्थान पर है और टीम की प्लेऑफ की राह आसान नहीं होने वाली है क्योंकि सनराइजर्स हैदराबाद और पंजाब किंग्स के भी 10 ही प्वाइंट हैं। वहीं दूसरी ओर राजस्थान 14 प्वाइंट के साथ तीसरे स्थान पर काबिज है और उसे क्वालीफाई करने के लिये महज 2 प्वाइंट की जरूरत है। ऐसे में राजस्थान का दिल्ली के खिलाफ मुकाबला काफी शानदार होने वाला है।

इस सीजन में दिल्ली लगातार अच्छा प्रदर्शन कर पाने में नाकाम रही है। हैदराबाद को हराने के बाद वह चेन्नई से 91 रन से मुकाबला हार गई थी। ऐसे में दिल्ली के गेंदबाजों को अधिक जिम्मेदारी के साथ मैदान में उतरना होगा क्योंकि चेन्नई के खिलाफ उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं था और तो और डेविड वॉर्नर को भी अपना जलवा दिखाने की जरूरत है। दिल्ली ने पृथ्वी शॉ से लेकर मनदीप सिंह और श्रीकर भरत को आजमाया है लेकिन टीम को सलामी जोड़ीदार नहीं मिल पाया है और डेविड वॉर्नर अकेले पड़ जाते हैं। 

बटलर पर होगी सभी की निगाहें

राजस्थान के सलामी बल्लेबाज जोस बटलर पर सभी की निगाहें रहने वाली हैं और कप्तान संजू सैमसन के साथ-साथ शिरोमन हेटमायर तूफानी पारी खेलने में सक्षम है। जोस बटलर के लिए मौजूदा सीजन काफी शानदार रहा है और उन्होंने तकरीबन हर मुकाबले में रन बनाए हैं। बराबरी की हैं दोनों टीमें दोनों टीमों के बीच अब तक 25 मुकाबले खेले जा चुके हैं और करीब-करीब दोनों ही टीमें बराबरी की नजर आ रही हैं। राजस्थान को 25 में से 13 मुकाबलों में सफलता मिली है। जबकि दिल्ली ने 12 मुकाबलों में जीत दर्ज की है। ऐसे में दिल्ली के पास मौका है कि वो राजस्थान को हराकर हेड-टू-हेड मुकाबले में बराबरी कर लें।