Friday , October 7 2022

IPL 2022। चेन्नई का सपना हुआ चकनाचूर

मुंबई इंडियंस ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 59वें मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स को 5 विकेट से शिकस्त दे दी। इसी के साथ ही चेन्नई की प्लेऑफ में जाने की आस समाप्त हो गई। हालांकि इस मुकाबले में चेन्नई के सलामी बल्लेबाज डेवॉन कॉन्वे टेक्निकल फॉल्ट का शिकार हुए। पहले ही ओवर में डेनियल सैम्स की गेंद पर डेवॉन कॉनवे को अंपायर ने एलबीडब्ल्यू करार दिया और वो डीआरएस नहीं ले पाए क्योंकि उस वक्त टेक्निकल फॉल्ट की वजह से डीआरएस की सुविधा उपलब्ध नहीं थी और ऐसा प्रतीत हो रहा था कि गेंद स्टंप को मिस कर रही है। खैर अंपायर का निर्णय मानते हुए डेवॉन कॉन्वे पवेलियन लौट गए और फिर दूसरे ओवर में जसप्रीत बुमराह की गेंद पर रॉबिन उथप्पा एलबीडब्ल्यू हो गए और उस वक्त भी डीआरएस उपलब्ध नहीं था। 

चेन्नई को नहीं बचा पाए धोनी

मुंबई ने महज 97 रन पर ही चेन्नई को ऑलआउट कर दिया था। हालांकि कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने नाबाद 36 रनों की पारी खेली। इस दौरान वो काफी ज्यादा निराश दिखाई दिए। 98 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए मुंबई को भी शुरुआती झटके लगे और चेन्नई ने काफी मिस फील्डिंग भी की लेकिन टिम डेविड ने 2 छक्के जड़कर मुंबई को तीसरी सफलता दिलाई और चेन्नई के सपने को चकनाचूर कर दिया।

घबरा गए थे रोहित शर्मा

जीत दर्ज करने के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने बताया कि शुरुआती विकेट गिरने की वजह से हम घबरा गए थे लेकिन भरोसा था कि मुकाबला जीत लेंगे। क्योंकि वानखेड़े की पिच को हम जानते हैं। उन्होंने कहा कि तिलक ने पहले ही साल में कमाल का प्रदर्शन किया है, उसका जज्बा शानदार है। इस मुकाबले का हीरो डेनियल सैम्स को चुना गया। उन्होंने 4 ओवर में 16 रन देकर 3 विकेट लेकर शानदार प्रदर्शन किया।

बेंगलोर के सामने होगी पंजाब

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर आईपीएल के 60वें मुकाबले में पंजाब किंग्स से ब्रेबोर्न स्टेडियम में भिड़ेगी। बेंगलोर ने पिछले दो मुकाबलों में शानदार प्रदर्शन किया। हालांकि पूर्व कप्तान विराट कोहली का फॉर्म अभी भी चिंता का विषय बना हुआ है। लेकिन बाकी के खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। रजत पाटीदार और महिपाल लोमरोर भी कप्तान फाफ डुप्लेसी, ग्लेन मैक्सवेल और दिनेश कार्तिक की तरह अच्छा खेल रहे हैं।

विराट कोहली के लिए अभी तक आईपीएल का मौजूदा सत्र अच्छा नहीं रहा है लेकिन वह पंजाब के खिलाफ इसकी भरपाई करने की कोशिश करेंगे। बेंगलोर के गेंदबाज भी लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं जिसमें शानदार फॉर्म में चल रहे जोश हेजलवुड और विश्वसीन हर्षल पटेल शामिल हैं। मोहम्मद सिराज अपनी सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में नहीं हैं लेकिन टीम उन पर महत्वपूर्ण मौकों पर अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद कर सकती है।

पंजाब का पलड़ा है भारी

बेंगलोर और पंजाब के बीच अब तक 29 मुकाबले खेले जा चुके हैं और इसमें पंजाब का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। पंजाब ने 29 में से 16 मुकाबलों में जीत दर्ज की है। जबकि बेंगलोर को महज 13 मुकाबलों में ही सफलता मिली है। प्लेऑफ में पहुंचने के लिए बेंगलोर को दोनों मुकाबलों में जीत दर्ज करनी होगी लेकिन नेट रन रेट फिर भी परेशान कर सकता है। ऐसे में उन्हें विरोधी टीमों के खिलाफ बड़ी जीत दर्ज करनी पड़ेगी। 

पंजाब की बात की जाए तो उसे शीर्ष चार टीमों में जगह बनाने के लिए अपने बाकी बचे तीनों मुकाबले जीतने होंगे। उसने अपने पहले मैच में बेंगलोर को हराया था लेकिन अभी उसके महज 10 प्वाइंट ही हैं और टीम ने 6 मुकाबले गंवाये हैं। पंजाब की टीम में निरंतरता का अभाव है और यही कारण है कि वह लगातार दो मुकाबलों में जीत के करीब पहुंचने के बावजूद हार गई। शीर्ष क्रम में शिखर धवन और भानुका राजपक्षे अच्छा योगदान दे रहे हैं जबकि लियाम लिविंगस्टोन और जितेश शर्मा पारी का अच्छा अंत कर रहे हैं। पंजाब के लिए जॉनी बेयरस्टो की फॉर्म में वापसी अच्छी खबर है।

कप्तान मयंक अग्रवाल ने मध्यक्रम में उतरने का फैसला किया है लेकिन उन्हें आगे बढ़कर नेतृत्व करने की जरूरत है। गेंदबाजी में कगिसो रबाडा ने अब तक 18 विकेट लिए हैं लेकिन वह महंगे साबित हुए हैं।