Tuesday , September 27 2022

अयोध्‍या के बाद नयी अंगड़ाई लेते दिख रहे हैं काशी और मथुरा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि अयोध्‍या में भव्‍य राम मंदिर निर्माण की शुरुआत के बाद काशी और मथुरा समेत सभी तीर्थस्थल नयी अंगड़ाई लेते हुए दिखायी दे रहे हैं और इन स्थितियों में सबको एक बार फिर आगे बढ़ना होगा। योगी ने यहां ‘अटल बिहारी वाजपेयी साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर’ में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की एक दिवसीय प्रदेश कार्यसमिति की बैठक के उद्घाटन सत्र को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए कहा, अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण की शुरुआत के बाद काशी ने जो अंगड़ाई ली है, वह हम सबके सामने है। काशी में काशी विश्‍वनाथ धाम का उद्घाटन होने के बाद प्रतिदिन एक लाख श्रद्धालु काशी विश्‍वनाथ धाम के दर्शन के लिए पहुंच रहे है। उन्होंने कहा, काशी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दृष्टिकोण के अनुरूप अपने नाम को सार्थक कर रही है और मथुरा, वृंदावन, विंध्यवासिनी धाम, नैमिष धाम सभी तीर्थ एक बार फ‍िर से नई अंगड़ाई लेते हुए दिखाई दे रहे हैं और इन स्थितियों में हम सबको एक बार फ‍िर आगे बढ़ना होगा। 

मुख्यमंत्री ने ईद के दौरान धर्म स्थलों से लाउडस्पीकर उतारे जाने और सड़कों पर नमाज न होने का जिक्र करते हुए कहा कि अलविदा के दिन सड़कों पर नमाज न हो, यह पहली बार उत्‍तर प्रदेश में संभव हो पाया है। उन्होंने कहा, ‘‘यह पहली बार हुआ कि सड़कों पर नमाज नहीं हुई। आपने देखा होगा जो अनावश्यक शोरगुल था उससे कैसे मुक्ति मिली। उन्‍होंने दावा किया कि नये भारत का नया उत्तर प्रदेश तैयार है जो मजबूती के साथ देश और दुनिया के सामने प्रस्तुत है। योगी ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को अभी से 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी के लिए प्रेरित करते हुए कहा, अगले चुनाव की भाव भूमि हमें अभी से तैयार करनी होगी और एक बार फ‍िर से लोकसभा की 75 सीटें जीतने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ना है। मुख्यमंत्री ने आगामी 30 मई को प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में केंद्र में भाजपा की सरकार के आठ वर्ष पूरे होने पर बधाई दी। पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘पार्टी को विधानसभा चुनाव में बेहतर परिणाम मिला है, इसलिए हमें 2024 के लिए अभी से आगे बढ़ना होगा।’’ उन्होंने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि 2024 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में एक बार फ‍िर से यह साबित करना है, इसलिए 75 लोकसभा सीटों का लक्ष्य लेकर अभी से आगे बढ़ना होगा। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 80 सीट हैं जिसमें 2014 के चुनाव में भाजपा ने 71 और सहयोगी अपना दल ने दो सीट जीती थीं जबकि 2019 के चुनाव में भाजपा को 62 और सहयोगी अपना दल (एस) को दो सीट मिली थीं। 

मुख्यमंत्री ने हाल में सम्पन्न विधानसभा चुनाव की सफलता की याद दिलाते हुए कहा, इस कामयाबी के बाद हम सब सामूहिक रूप से एकत्र हुए हैं, आप सभी का अभिनंदन करता हूं। आप सबके परिश्रम, प्रधानमंत्री के नेतृत्व, राष्ट्रीय अध्यक्ष के मार्गदर्शन में भाजपा ने तमाम मिथकों, षड्यंत्रों को धूल धूसरित करते हुए 37 वर्ष के बाद उत्तर प्रदेश में फ‍िर से सरकार बनाने में सफलता प्राप्त की है। विपक्षी दलों पर तंज करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश की पिछली सरकारों ने एक अविश्वास की स्थिति पैदा की थी, प्रदेश के बारे में दुनिया में जो धारणा बन गई थी उसमें पिछले पांच वर्षों में भले ही कोरोना महामारी के कारण तीन वर्ष ही काम करने को मिला लेकिन इन सबके बावजूद उत्तर प्रदेश के बारे में लोगों की धारणा बदली है। उन्होंने कहा, जो लोग षडयंत्र के जरिये खंडित जनादेश लाकर उत्तर प्रदेश में लूट तंत्र को बढ़ावा देने का सपना पाले थे, उन्‍हें जनता ने बेनकाब कर दिया। पिछले विधानसभा चुनाव का यह जनादेश बहुत स्पष्ट संकेत करता है कि अगर आप गांव, गरीब, किसान, नौजवान, महिलाओं और समाज के प्रत्येक तबके के लिए ईमानदारी के साथ कार्य कर रहे हैं तो जनता जनार्दन भी जाति, धर्म, मत मजहब, क्षेत्र से ऊपर उठकर आपके साथ पूरी मजबूती के साथ खड़ी होती दिखाई देगी। 

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने इस मौके पर कहा कि भाजपा के लिये संगठन सरकार से ज्यादा बड़ा है क्योंकि संगठन सबसे बड़ी ताकत है। उन्होंने कहा कि 2017 में किसी को भी यकीन नहीं था कि भाजपा प्रदेश में सरकार बनायेगी, मगर पार्टी कार्यकर्ताओं और संगठन की मजबूती की वजह से भाजपा ने भारी बहुमत से सरकार बनायी। प्रदेश के दूसरे उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कांग्रेस को चलाने वाले लोग महात्मा गांधी का नाम तो लेते हैं लेकिन उन्होंने उनके कार्य-व्यवहार से कुछ भी नहीं सीखा।