Thursday , October 6 2022

जानिए-रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और मंत्र

नई दिल्ली: इस साल रक्षाबंधन की तिथि को लेकर लोग काफी असमंजस में हैं। कुछ लोग 11 अगस्त को राखी बांधना शुभ मान रहे हैं, तो कुछ 12 अगस्त के दिन राखी बांधना शुभ होगा, तो आइए पंडित जी से जानते हैं कि किस दिन राखी बांधना शुभ होगा।

पंडित मनीष शर्मा के अनुसार, रक्षाबंधन का मंगल त्यौहार इस वर्ष 11 अगस्त 2022 को मनाया जाएगा। इस वर्ष 11 अगस्त एवं 12 अगस्त में भ्रम पड़ा हुआ है कि 11 अगस्त को भद्रा होने से रक्षाबंधन कब मनाया जाए, इस संबंध में प्राचीन ऋषि मनीषियों ने अपने-अपने मत प्रस्तुत किए हैं जिसके आधार पर हम इस वर्ष कब रक्षाबंधन मनाएंगे इस पर विचार अपेक्षित है। अलग अलग स्थानों पर समय के आलावा तारीख में भी मदभेद चल रहा है.

रक्षा बंधन एवम् श्रावणी पर्व अपराह्नव्यापिनी श्रवण पूर्णिमा में मनाया जाता है| परन्तु यदि भद्रा हो तब यह निषिद्ध है- “भद्रायाम द्वे न कर्तव्ये श्रावणी फाल्गुनी तथा”

पुरुषार्थ चिंतामणि कर में कहा गया है कि जब पहले दिन अपराह्न में भद्रा हो, दूसरे दिन पूर्णिमा मुहूर्तत्रय-व्यापिनी हो और वह अपराह्न से पूर्व ही समाप्त हो जाए, तब दूसरे दिन अपराह्न में रक्षाबंधन करना चाहिए| क्योंकि उस समय पूर्णिमा का अस्तित्व होगा। लेकिन इस वर्ष भद्रा का प्रारंभ पूर्णिमा तिथि के साथ प्रातः 10 बजकर 37 मिनिट से प्रारंभ होकर रात्रि 08 बजकर 50 मिनट तक भद्रा है तथा पूर्णिमा 12 अगस्त को प्रातः 07 बजकर 04 मिनट तक ही है। इसीलिए इस वर्ष रक्षाबंधन और श्रावणी रात्रि 08:50 के बाद ही मनाया जाएगा।
ऐसे में 11 अगस्त को अभिजीत मुहूर्त में राखी बांधी जा सकती है। मुहूर्त गणना के अनुसार 11 अगस्त को अभिजीत मुहूर्त दोपहर में 11.37 बजे से 12.29 बजे तक रहेगा। शास्त्रों में अभिजीत मुहूर्त को दिन के सभी मुहूर्तों में सबसे उत्तम और शुभ मुहूर्त माना गया है। इस अभिजीत मुहूर्त में कोई भी शुभ कार्य या पूजा की जा सकती है। इसके अलावा गुरुवार 11 अगस्त को दोपहर 02:14 से 03:07 बजे तक विजय मुहूर्त रहेगा। ऐसे में भद्राकाल में इस समय राखी बांधी जा सकती है। इस बार भद्रा की वजह से बहनों को राखी बांधने के लिए कम समय मिलेगा। 11 अगस्त को शाम 5:17 से 06.16 बजे तक भद्रा पूंछ में रहेगी। इसके बाद 08 बजे तक भद्रा मुख ही रहेगी। शास्त्रों में भद्रा के समय राखी बांधना शुभ नहीं माना गया है। मगर, अगर बहुत जरूरी हो तो चौघड़िया के समय को ध्यान में रखते हुए राखी बांध सकते हैं।
रक्षाबंधन 2022 का शुभ मुहूर्त
शुभ समय – 11 अगस्त को सुबह 9 बजकर 28 मिनट से रात 9 बजकर 14 मिनट

अभिजीत मुहूर्त – दोपहर 12 बजकर 6 मिनट से 12 बजकर 57 मिनट तक

रवि योग : सुबह 5 बजकर 56 मिनट से सुबह 06 बजकर 53 मिनट तक

अमृत काल – शाम 6 बजकर 55 मिनट से रात 8 बजकर 20 मिनट तक

ब्रह्म मुहूर्त – सुबह 04 बजकर 29 मिनट से 5 बजकर 17 मिनट तक

आयुष्मान योग : 10 अगस्त शाम 7 बजकर 36 मिनट से लेकर 11 अगस्त दोपहर 03 बजकर 32 मिनट तक

रक्षाबंधन 2022 पर भद्रा काल
राहुकाल-11 अगस्त दोपहर 2 बजकर 8 मिनट से 3 बजकर 45 मिनट तक

रक्षा बंधन भद्रा अंत समय – रात 08 बजकर 51 मिनट पर

रक्षा बंधन भद्रा पूंछ – 11 अगस्त को शाम 05 बजकर 17 मिनट से 06 बजकर 18 मिनट तक

रक्षा बंधन भद्रा मुख – शाम 06 बजकर 18 मिनट से लेकर रात 8 बजे तक

12 अगस्त को रक्षाबंधन
12 अगस्त को राखी बांधने का शुभ समय सुबह 7 बजकर 5 मिनट तक रहेगा।

भाई की कलाई पर ऐसे राखी बांधे बहनें
रक्षाबंधन पर बहनें एक थाली में रोली, चंदन, राखी, घी का दीपक, मिठाई, अक्षत, फूल आदि रख लें।
भाई को पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठा दें।
भाई के सिर पर रुमाल डाल दें।
सबसे पहले माथे पर रोली, चंदन और अक्षत आदि लगाएं।
फिर मंत्र बोलते हुए राखी बांधे।
राखी बांधने के बाद मिठाई खिलाएं।
इसके बाद आरती कर लें।
भाई बहन के पैर छूकर उसे उपहार दें।