Wednesday , August 10 2022

मोटापा: जानिए इससे जुड़े कुछ मिथ्स की सच्चाई

खाने के साथ या बाद में पानी पीने को लेकर अक्सर चर्चा होती है। दादी-नानी की मानें तो खाने के तुरंत बाद पानी पीना सही नहीं होता। लेकिन क्या वाकई ये सच है?आयुर्वेद के मुताबिक जब भी इच्छा हो तभी पानी पीना चाहिए। हालांकि एक साथ पानी और खाने को लेकर हमेशा बहस होती है, कुछ का मानना ​​है कि खाने से पहले और साथ में पानी पीने से पाचन पर असर होता है। ऐसे में यहां जानें खाने से पहले, खाने के साथ और खाने के बाद पानी पीने से क्या होता है।
खाने के साथ पानी पीने से क्या होता है?
पानी और ड्रिंक खाने को ब्रेक करने में मदद करते हैं ताकि शरीर पोषक तत्वों को उचित तरीके से अवशोषित कर सके। इतना ही नहीं, पानी मल को भी नरम करता है, इसी के साथ ये कब्ज को दूर रखने, सूजन से निपटने और पाचन में मदद करेगा।

इसके अलावा, खाने के साथ पानी पीने से आपको अगला निवाला लेने के लिए रुकने में भी मदद मिल सकती है, जिससे आपको अपनी भूख और तृप्ति के साइन मिलता है। इस प्रकार, खाने से पहले और खाने के दौरान पानी पीने से वजन कम करने में मदद मिल सकती है।

खाने के तुरंत बाद पानी पीने से क्या होता है?

कई रिपोर्ट्स ये दावा करती हैं कि खाने के बाद पानी पीने से आपको पाचन संबंधी समस्या हो सकती है। इसी के साथ ये पोषक तत्वों के अवशोषण को भी रोक सकता है। हालांकि, खाने के बाद पानी पीने से खाने को तोड़ने में मदद मिलती है ताकि आपका शरीर पोषक तत्वों को अच्छी तरह से अवशोषित कर सके। इतना ही नहीं, यह कब्ज, सूजन और अपच को भी रोकता है।

खाने से पहले पानी पीने से क्या होता है?

खाने से पहले पानी पीने से पेट भरा हुआ महसूस हो सकता है और भूख कम हो सकती है, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इससे किसी के शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ सकती है।

खाते समय पानी पीने से इंसुलिन का स्तर बढ़ सकता है, ठीक वैसे ही जैसे हाई ग्लाइसेमिक खाने की चीजें करती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शरीर खाने को ठीक से पचा नहीं पाता है और उस खाने के ग्लूकोज से भरे हिस्से को फैट में बदल कर स्टोर कर लेता है। यह प्रक्रिया तब शरीर में इंसुलिन के स्तर को बढ़ाती है, और व्यक्ति को हाई ब्लड शुगर के लेवल का सामना करना पड़ सकता है।

इसके साथ ही व्यक्ति को एसिडिटी की समस्या हो सकती है या पहले से मौजूद पुरानी एसिडिटी की समस्या और बढ़ जाती है। अगर आपको नियमित रूप से एसिडिटी होती है