Wednesday , July 6 2022

जानिए कौन हैं कंप्यूटर बाबा, क्यों आश्रम पर चला बुलडोजर

भोपाल: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने सोमवार को इंदौर सेंट्रल जेल में कंप्यूटर बाबा के साथ होने वाली मुलाकात रद्द कर दी.  दिग्विजय सिंह ने रविवार को ऐलान किया था कि वह सोमवार दोपहर 2 बजे इंदौर सेंट्रल जेल में कंप्यूटर बाबा से मुलाकात करेंगे.

सोमवार सुबह दिग्विजय सिंह के कार्यालय से जानकारी दी गई कि उन्होंने दिल्ली में कुछ आवश्यक काम की वजह से सोमवार को इंदौर जाने का कार्यक्रम रद्द कर दिया. इस बीच नगर निगम के अधिकारियों ने लगातार दूसरे दिन भी कंप्यूटर बाबा की अवैध संपत्तियों को गिराना जारी रखा.

नगर निगम के अधिकारियों ने रविवार को कंप्यूटर बाबा के आश्रम को ध्वस्त कर दिया

इंदौर नगर निगम के अधिकारियों ने रविवार को कंप्यूटर बाबा के आश्रम को ध्वस्त कर दिया. ये आश्रम शहर के बाहरी इलाके में कथित तौर पर चरागाह भूमि का अतिक्रमण करके बनाया गया था. कंप्यूटर बाबा और छह अन्य लोगों को गिरफ्तार करने के बाद न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. आश्रम से एक राइफल, एक एयरगन और एक कृपाण भी बरामद की गई. पुलिस को ऑपरेशन के दौरान बेनामी संपत्ति के कागजात भी मिले हैं. इसके अलावा उनके कुछ बैंक खातों से जुड़े दस्तावेज की जांच भी की जा रही है.

दिग्विजय ने दिया कंप्यूटर बाबा का नाम

नामदेव दास त्यागी को तेज दिमाग की वजह से दिग्विजय सिंह ने कंप्यूटर बाबा का नाम दिया. कंप्यूटर से नामदेव दास त्यागी का इतना ही नाता है. बाकी उनके लिए कंप्यूटर भी स्टाफ चलाता है. कंप्यूटर बाबा का असल नाम नामदेव दास त्यागी है. कंप्यूटर बाबा का नाम 2018 में पहली बार सुर्खियों में आया. उन्हें 2018 मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से कुछ समय पहले शिवराज सरकार ने राज्य मंत्री का दर्जा दिया था.

ये घटनाक्रम कंप्यूटर बाबा की उस धमकी के बाद हुआ था जब उन्होंने नर्मदा नदी के किनारे किए गए पौधारोपण अभियान में बड़े घोटाले को उजागर करने की धमकी दी थी. ऐसा शिवराज सिंह चौहान की नर्मदा परिक्रमा यात्रा के दौरान हुआ था जिसमे उन्होंने 6 करोड़ पौधे लगाने का दावा किया था. इस पर कंप्यूटर बाबा ने समांतर यात्रा निकालने और भ्रष्टाचार का पर्दाफाश करने की बात कही थी.

 

Leave a Reply