Saturday , August 13 2022

ममता का चैलेंज : बंगाल में 30 सीट भी जीत कर दिखा दे BJP

बीरभूम। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बीजेपी को चुनौती देते हुए कहा कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी बंगाल में 30 सीट भी जीत कर दिखा दे, 294 तो बड़ी बात है। 2021 में टीएमसी की ही जीत होगी। पैसे के बल पर कुछ एमएलए को तोड़ने से कुछ नहीं होगा। टीएमसी अब बट वृक्ष बन गई है। ममता बनर्जी ने मंगलवार को बोलपुर में पदयात्रा के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए बीजेपी पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि दिल्ली से नेता आते हैं, वे बाहरी हैं। उन्हें बंगाल की संस्कृति की जानकारी नहीं हैं। वे गांधी जी का भी सम्मान नहीं करते हैं।

ममता बनर्जी ने कहा कि अब बीजेपी वाले हर हफ्ते आते हैं

वे बंगाल में आकर घृणा, संकीर्णता और विद्वेष की राजनीति कर रहे हैं। बता दें कि हाल में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बंगाल दौरे के दौरान दावा किया था कि बीजेपी बंगाल में 200 से अधिक सीट हासिल करेंगी और बंगाल में बहुमत से सरकार बनाएगी। ममता बनर्जी ने कहा कि अब बीजेपी वाले हर हफ्ते आते हैं, फाइव स्टार वाला खाना खाते हैं और ऐसे दिखाते हैं कि आदिवासी के साथ खाना खा रहे हैं।

हम 365 दिन गुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर के साथ हैं, लेकिन बीजेपी हर दिन फर्जी वीडियो फैलाकर समाज को बांटने का काम कर रही है। ममता की ओर से यहां पीएम मोदी पर भी तंज कसा गया। उन्होंने कहा कि किसी ने नया रूप धारण किया है। कभी वो टैगोर बनना चाहते हैं, तो कभी गांधी जी। बीजेपी वाले केंद्रीय एजेंसी और पैसों का इस्तेमाल कर बंगाल में घुसना चाहते हैं।

ममता ने कहा जिन्हें गुरुदेव के बारे में कुछ पता नहीं है वो कहते हैं कि वो शांतिनिकेतन में पैदा हुए। ममता ने आरोप लगाया कि आज विश्व भारती यूनिवर्सिटी को राजनीति में धकेला जा रहा है। बंगाल में नफरत की राजनीति को पनाह दी जा रही है, वो लोग हिन्दू धर्म को ही खत्म करना चाहते हैं।

अमित शाह ने बंगाल दौरे के दौरान बोलपुर में रोड शो के जवाब

गौरतलब है कि ममता बनर्जी ने मंगलवार को अमित शाह ने बंगाल दौरे के दौरान बोलपुर में रोड शो के जवाब में मंगलवार दोपहर को बीरभूम जिले के बोलपुर में पदयात्रा कीं। पदयात्रा को लेकर भारी भीड़ उमड़ी और टीएमसी समर्थकों को सैलाब उमड़ पड़ा था। ममता बनर्जी हाथ में एकतारा लेकर लगभग साढ़े चार किलोमीटर तक पैदल मार्च कीं। उन्होंने बोलपुर के डाक बांग्ला मोड़ से लेकर जामबनी मोड़ तक पदयात्रा कीं।

 

 

Leave a Reply