Thursday , July 7 2022

हाथरस कांड को लेकर मायावती ने सरकार से कही ये बात

लखनऊ: बसपा प्रमुख और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री रहीं मायावती ने विपक्ष पर हाथरस कांड के बहाने यूपी में दंगा फैलाने की साजिश के आरोप को लेकर योगी सरकार पर तगड़ा पलटवार किया है। मंगलवार को मायावती ने ट्वीट कर कहा कि यह आरोप सही है या गलत यह तो समय बताएगा लेकिन जनमत की मांग यह है कि सरकार अभी पीड़िता के परिवार को न्‍याय दिलाने पर अपना ध्‍यान केंद्रित करे।

उन्होंने मंगलवार को ट्वीट करते हुए कहा कि, ”हाथरस कांड की आड़ में विकास को प्रभावित करने हेतु जातीय और साम्प्रदायिक दंगा भड़काने की साजिश का विपक्ष पर लगाया गया यूपी सरकार का आरोप सही या चुनावी चाल, यह समय बताएगा, किन्तु जनमत की मांग है कि हाथरस कांड के पीड़िता के परिवार को न्याय दिलाने पर सरकार ध्यान केन्द्रित करे। सरकार यह करे तो बेहतर होगा।”

उन्होंने आगे लिखा, ”हाथरस कांड को लेकर पीड़िता के परिवार के साथ जिस प्रकार का गलत और अमानवीय व्यवहार किया गया उससे देश भर में काफी रोष और आक्रोश। सरकार अब भी गलती सुधारे और पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए गंभीर हो वरना जघन्य घटनाओं को रोक पाना मुश्किल होगा।”

योगी सरकार ने विपक्ष पर लगाया था साजिश रचने का आरोप

आपको बता दें कि मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर हाथरस कांड के बहाने यूपी में दंगा फैलाने की साजिश रचने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि विपक्ष को विकास अच्छा नहीं लग रहा है। वह देश और प्रदेश में जातीय व सांप्रदायिक दंगा भड़काना चाहता है। दंगों की आड़ में विपक्ष को सियासी रोटियां सेंकने का मौका मिलेगा और विकास रुकेगा। इसलिए विपक्षी दल नित्य नए षड्यंत्र करते रहते हैं। हमें साजिशों के प्रति सतर्क रहते हुए विकास की प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाना है।

यूपी पुलिस ने किया था दंगा फैलाने की साजिश का खुलासा

उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में सोमवार रात पुलिस ने चरमपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और उसके सहयोगी कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया (CFI) से जुड़े चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए लोगों के पास हाथरस गैंगरेप मामले से जुड़ा भड़काऊ साहित्य मिला है। इनके मोबाइल, लैपटॉप जब्त किए गए हैं। चारों आरोपी दिल्ली से आए थे और हाथरस जा रहे थे। पुलिस और खुफिया एजेंसियां आरोपियों से पूछताछ में जुटी हैं। पुलिस ने हाथरस के बहाने यूपी में जातीय हिंसा भड़काने की साजिश का खुलासा रविवार को ही किया था। इसमें PFI का नाम भी सामने आया था।

Leave a Reply