Wednesday , July 6 2022

मोदी को बिना खेले ही मिलेगा जीत का सर्टिफिकेट

पटना: सुशील कुमार मोदी राज्यसभा चुनाव के लिए मैदान में उतरे, लेकिन विपक्ष से उन्हें एक भी खिलाडी नहीं मिला। राज्यसभा चुनाव के नॉमिनेशन के पहले दिन बुधवार को सुशील मोदी ने, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में नामांकन भरा था। लेकिन, राजद ने महागठबंधन की ओर से सुशील कुमार मोदी के खिलाफ प्रत्याशी न उतारने का एलान कर दिया है ।

विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में करारी शिकस्त और बड़े उलटफेर की कोई संभावना नहीं देख महागठबंधन के किसी दल के किसी नेता ने राज्यसभा चुनाव में हार का सर्टिफिकेट लेने की हिम्मत नहीं दिखाई और मोदी निर्विरोध रह गए। अब चुनाव अधिकारी नामांकन का समय खत्म होने के बाद सुशील कुमार मोदी को राज्यसभा चुनाव में जीत का सर्टिफिकेट सौंप देंगे।

आत्मा आज भी बिहार के भीतर

रामविलास पासवान के निधन के बाद खाली हुई राज्यसभा की सीट से भाजपा ने सुशील मोदी का नाम फाइनल कर दिया है, पर उनके दिल में बिहार सरकार ही है। सुशील मोदी ने रविवार को कहा कि मैं बिहार सरकार का हिस्सा नहीं हूं, लेकिन मेरी आत्मा उसी के भीतर बसती है।

कई नाम चर्चा में थे, पर फाइनल सुशील मोदी हुए

इस सीट के लिए भाजपा की तरफ से शाहनवाज हुसैन को भी भेजे जाने की चर्चा थी। इसके अलावा वरिष्ठ नेता आरके सिन्हा के बेटे ऋतुराज के नाम की भी चर्चा थी। आखिरकार सुशील मोदी को ही भाजपा ने अपना कैंडिडेट बनाया है। हालांकि, नीतीश कुमार की पसंद के खिलाफ भाजपा सुशील मोदी को बिहार से केंद्र भेज रही है।

 

Leave a Reply