प्रतापगढ़ में पत्रकार की मौत के मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज

0 2

प्रतापगढ़। जनपद में एक टीवी चैनल के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज हो गया है। सुलभ की रविवार देर रात सड़क किनारे लाश मिली थी। पुलिस ने मामले को हादसा बताया था। एक दिन पहले शनिवार को ही सुलभ ने शराब माफियाओं से अपनी जान को खतरा बताते हुए पुलिस अधिकारियों को शिकायती पत्र दिया था। इसके बाद भी उसे सुरक्षा नहीं मिल सकी थी। बताया जाता है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद मिले कुछ सबूतों के कारण पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। पत्रकार की मौत को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी यूपी सरकार पर हमला बोला।

नगर कोतवाली क्षेत्र के रेलवे स्टेशन मोहल्ले में रहने वाले सुलभ श्रीवास्तव (40) रविवार शाम एक घटना के कवरेज के लिए लालगंज कोतवाली गए थे। रात करीब साढ़े 10 बजे वहां से लौट रहे थे। नगर कोतवाली क्षेत्र के सुखपाल नगर इलाके में संदिग्ध हालत में रोड  किनारे अर्धनग्न अवस्था में मिले। सिर पर चोट के निशान मिले। शर्ट के सारे बटन खुले हुए थे। स्थानीय लोगों की सूचना पर उन्हें राजकीय मेडिकल कॉलेज (जिला अस्पताल) पहुंचाया गया। यहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना मिलने पर परिजन मेडिकल कॉलेज पहुंचे।

पुलिस ने पहले बताया कि सुलभ लालगंज से लौटते समय हादसे का शिकार हो गए थे। उन्हें जिला अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने बताया था कि प्रथम दृष्टया लगता है कि उनकी बाइक एक हैंडपंप से लड़ने के बाद दुर्घटना का शिकार हो गई।

घटना  की जानकारी मिलते ही अस्पताल पहुंचे घर वालों ने हत्या का आरोप लगाया। परिजनों ने कहा कि सुलभ की मौत सड़क हादसे में नहीं हुई है। साजिश के तहत उनकी हत्या की गई। सोमवार को सुबह इसे लेकर विपक्षी दलों ने भी सरकार पर हमला बोल दिया। अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर पुलिस और सरकार पर कई आरोप लगाए।

परिवार की मांग का पूरा ख्याल रखा जाएगा
एडीजी प्रेम प्रकाश का दावा है कि परिवार को सुरक्षा भी मुहैया कराई गई है। एक महिला और एक पुरुष कांस्टेबल परिवार की सुरक्षा में रहेगा। परिवार जिस तरह चाहेगा उस तरह से मामले में जांच कराई जाएगी। परिवार अगर कहेगा तो किसी दूसरे जिले की एसआईटी से भी जांच कराई जाएगी। लिखित सीबीआई जांच की मांग होने पर उसे शासन को भेजा जाएगा। परिवार की मांग का पूरा ख्याल रखा जाएगा। एडीजी प्रेम प्रकाश ने सुलभ के लेटर पर सफाई देते हुए कहा कि कल दोपहर को ही लेटर मिला था जिसे तुरंत प्रतापगढ़ के एसपी को फॉरवर्ड कर दिया गया था। एसपी ने तुरंत सुलभ से बात भी कर ली थी। रात को जिस खबर की कवरेज करने गए थे वहां भी प्रभारी एसपी ने उनसे बात कर हर तरह की मदद का भरोसा दिलाया था।

मामले में इंसाफ होगा
प्रतापगढ़ के डीएम नितिन बंसल ने आर्थिक मुआवजे की सिफारिश सरकार से किए जाने की जानकारी दी साथ ही पत्नी को नौकरी दिए जाने का वादा भी किया। उन्होंने कहा कि शैक्षिक योग्यता के आधार पर नौकरी दिलाई जाएगी। प्रतापगढ़ के सांसद संगम लाल गुप्ता ने कहा इस मामले में इंसाफ होगा, कहीं कोई कोताही नहीं बरती जाएगी। परिवार को इंसाफ दिलाया जाएगा। सपा एमएलसी अक्षय प्रताप उर्फ़ गोपाल जी ने भी सरकार को घेरते हुए सीबीआई जांच की मांग की। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भी प्रदर्शन कर सुलभ के परिवार वालों के लिए इंसाफ की मांग की है।

पत्नी ने की सीबीआई जांच की मांग
परिजनों का आरोप है कि ये हादसा नहीं बल्कि हत्या है। पत्नी ने हत्या के पीछे बड़ी साजिश की आशंका जताई है। पत्नी रेणुका श्रीवास्तव ने पूरे मामले में सीबीआई जांच की मांग की है. पत्नी का आरोप है कि प्रतापगढ़ की पुलिस पर भरोसा नहीं है। प्रतापगढ़ पुलिस मामले में लीपापोती करेगी। सीबीआई जांच से ही सच सामने आएगा। परिवार ने अपने लिए भी खतरे का अंदेशा जताया है और सुरक्षा की मांग की है। परिवार का आरोप है कि सुलभ कई दिनों से बेहद परेशान थे। सुलभ श्रीवास्तव ने परिवार के सामने ही पुलिस को देने के लिए प्रार्थना पत्र तैयार किया था। पत्नी ने कहा कि अगर पुलिस ने वक्त रहते मदद कर दी होती तो आज सुलभ जिंदा होते।

Leave A Reply

Your email address will not be published.