Thursday , October 6 2022

BJP मिशन 2024 फतह प्लानिंग का हिस्सा

UP BJP मिशन 2024 फतह की प्लानिंग का ही नतीजा है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश का सरकार के बाद भाजपा संगठन में भी कद बढ़ गया है। प्रदेश महामंत्री संगठन जैसे महत्वपूर्ण पद पर बिजनौर के धर्मपाल सिंह की नियुक्ति इसी की एक कड़ी है। अभी तक बिजनौर जनपद अहम पदों से अछूता था। संघ-सरकार और संगठन में समन्वय का दायित्व पश्चिम को देकर 2024 के लक्ष्य को आगे बढ़ाया गया है।  

बिजनौर की नगीना तहसील के निवासी और प्रचारक धर्मपाल सिंह को संगठन का लंबा अनुभव है। अभी तक प्रदेश महामंत्री संगठन का दायित्व सुनील बंसल संभाल रहे थे। उनकी राष्ट्रीय महामंत्री संगठन के रूप में पदोन्नति के बाद प्रदेश का दायित्व धर्मपाल सिंह को मिला है।  

भाजपा नेताओं के अनुसार, पार्टी की नजर अब पश्चिम क्षेत्र के 14 लोकसभा और 71 विधानसभा सीटों पर है। विधानसभा चुनाव में भले ही पश्चिम क्षेत्र से भाजपा ने 71 में से 40 सीटों पर जीत दर्ज की, लेकिन अब भाजपा का फोकस सभी 14 लोकसभा सीटों पर है। संघ और संगठन के हिसाब से देखें तो बिजनौर भी पश्चिमी क्षेत्र में आता है। संघ के नजरिये से वह मेरठ प्रांत में है और संगठन के हिसाब से पश्चिमी क्षेत्र में।

पश्चिम का एकाएक बढ़ा कद
प्रदेश की 71 विधानसभा सीटों पर भाजपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 40 विधायक हैं और 10 मंत्री हैं। केन्द्र सरकार में भी यहां के दो मंत्री शामिल हैं। अकेले मेरठ से ही तीन राज्यसभा सांसद भी हैं। पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डॉ.लक्ष्मीकांत वाजपेयी हाल ही राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए हैं। किसान बेल्ट को महत्वपूर्ण मानते हुए भाजपा ने अब संगठन में वेस्ट यूपी को तरजीह दी है। 

पहले राकेश जैन, राम लाल भी संभाल चुके हैं संगठन
धर्मपाल सिंह से पहले राकेश जैन और रामलाल जैसे वरिष्ठ प्रचारक भी संगठन का दायित्व संभाल चुके हैं। रामलाल को भी पदोन्नति देकर राष्ट्रीय महामंत्री ( संगठन) बनाया गया था। संघ, संगठन और सरकार की दृष्टि से प्रदेश महामंत्री संगठन का पद काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।आरएसएस के आनुसांगिक संगठन विहिप से जुड़े हैं बिजनौर के चंपतराय
भाजपा में सीधे तौर पर बिजनौर के किसी व्यक्ति को पहली बार उच्च दायित्व मिला है। इससे पहले आरएसएस के ही अनुसांगिक संगठन विश्व हिंदू परिषद में प्रचारक चंपतराय भी काफी बड़े पदों पर रहे हैं।