Friday , August 12 2022
पशुधन घोटाला : कोर्ट ने आईपीएस अरविंद सेन को 14 दिन के लिए भेजा जेल
पशुधन घोटाला : कोर्ट ने आईपीएस अरविंद सेन को 14 दिन के लिए भेजा जेल

पशुधन घोटाला : कोर्ट ने आईपीएस अरविंद सेन को 14 दिन के लिए भेजा जेल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पशुधन विभाग में ठेका दिलाने के नाम पर फर्जीवाड़ा करने के आरोपी फरार आईपीएस अरविंद सेन ने आज लखनऊ के भ्रष्टाचार निवारण कोर्ट में सरेंडर किया। जहां से उन्हें 9 फरवरी तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। सेन 31 जनवरी को रिटायर हो रहे हैं। उन पर 50 हजार रुपए का इनाम भी घोषित है। उन्हें निलंबित किया जा चुका है। पुलिस ने उनके लखनऊ व पैतृक आवास अयोध्या में डुगडुगी पिटवाकर फरार घोषित कर चुकी है। गिरफ्तारी के डर से उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की थी। जिसे सोमवार को खारिज कर दिया गया है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में जस्टिस आलोक माथुर की एकल पीठ ने सोमवार को पशुधन घोटाला मामले की सुनवाई की थी। कहा था कि पूरे मामले को देखने के बाद यह नहीं कहा जा सकता कि याची के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है। अपर महाधिवक्ता वीके शाही ने याचिका का विरोध करते हुए तर्क दिया कि जांच के दौरान यह बात सामने आई कि याची (अरविंद सेन) मुख्य अभियुक्त आशीष राय के साथ सक्रिय रूप से सम्मिलित था।

उसने खुद को सीबीसीआईडी का अधिकारी बताकर पीड़ित मंजीत भाटिया से मुलाकात की थी। उसे 35 लाख रुपए भी मिले थे। यही नहीं 10 लाख रुपए तो याची ने अपने बैंक खाते में मंगाए थे।याची वरिष्ठ पुलिस अधिकारी है व पहले भी जांच को प्रभावित करने की कोशिश कर चुका है।

क्या है मामला ?

13 जून, 2020 को इस मामले की एफआईआर  इंदौर के एक व्यापारी मंजीत सिंह भाटिया उर्फ रिन्कू ने थाना हजरतंगज में दर्ज कराई थी। इस मामले में मोंटी गुर्जर, आशीष राय व उमेश मिश्रा समेत 13 अभियुक्तों को नामजद किया गया था। विवेचना में आईपीएस अधिकारी अरविंद सेन का नाम भी प्रकाश में आया। अभियुक्तों पर झूठे दस्तावेजों व फर्जी नाम से गेहूं, आटा, शक्कर व दाल आदि की सप्लाई का ठेका दिलवाने के नाम पर 9 करोड़ 72 लाख 12 हजार रुपए की ठगी का आरोप है।

पशुपालन विभाग में 214 करोड़ का टेंडर दिलाने के नाम पर करोड़ों रुपए हड़पने के मामले में एसटीएफ ने सिपाही के अलावा नौ आरोपितों को गिरफ्तार चुकी है। इसमें पशुधन, मत्स्य एवं दुग्ध विकास राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद का प्रधान निजी सचिव रजनीश दीक्षित, सचिवालय का संविदा कर्मी धीरज कुमार देव, कथित पत्रकार एके राजीव व खुद को पशुपालन विभाग का उपनिदेशक बताने वाला आशीष राय शामिल हैं।

Leave a Reply